News

सातवीं जनगणना की जिला स्तरीय कार्यशाला शुक्रवार को

उदयपुर, 6 जून। देश में सातवीं आर्थिक गणना का कार्य जल्द ही प्रारंभ होने वाली है। सातवीं आर्थिक गणना का कार्य पूरी तरह डिजिटल होगा। इस बार सरकार ने मात्र 3 महीने में इस गणना का रिपोर्ट सौंपने की बात कही है। 
सातवीं आर्थिक गणना का कार्य का जिम्मा डिजिटल सेवा प्रदान करने वाले कॉमन सर्विस सेंटर सीएससी को मिला है। इस गणना के आंकड़े जुटाने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर के ग्रामीण उद्यमियों को जोड़ा गया है। इन्हीं ग्राम स्तरीय कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण को लेकर दिनांक 7 जून प्रातः 10 बजे से जिला परिषद सभागार में जिला स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम रखा गया है। जिला सांख्यिकी अधिकारी पुनीत शर्मा ने बताया कि आर्थिक गणना में प्रगणक और सुपरवाइजर के साथ साथ लेवल वन और लेवल 2 के अधिकारियों को भी इस कार्यशाला में उपस्थित होने हेतु कहा गया है। कार्यशाला में प्रगणक द्वारा अपने स्मार्ट मोबाइल फोन द्वारा डाटा संग्रहण सिखाया जाएगा। इस प्रशिक्षण कार्यशाला में उन्हें इस संबंध में आने वाली सभी कठिनाइयों के समाधान पर विस्तृत चर्चा की जाएगी। सीएससी के आवेदित 177 सुपरवाइजर एवं एनिमेटर इस कार्यशाला में उपस्थित होंगे साथ ही ब्लॉक सांख्यिकी अधिकारी, नेशनल सैंपल सर्वे के अधिकारी, जिला उद्योग अधिकारी भी उपस्थित रहेंगे।

स्काउट-गाइड ने मनाई महाराणा प्रताप जयंती

उदयपुर, 6 जून। राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड मंडल मुख्यालय उदयपुर के तत्वावधान में एवन स्कूल में महाराणा प्रताप जयंती डालचंद सुथार की अध्यक्षता में मनाई गई।  श्री सुथार ने प्रताप के संघर्ष मय जीवन पर प्रकाश डाला व "अरे घास री रोटी ही" गीत सुनाया।  सुनील सुथार ने "वो महाराणा प्रताप कठे" गीत प्रस्तुत किया।
इस अवसर पर वॉली मार्शल आर्ट ऐकेडमी केशव नगर की निदेशक श्रीमती हीना जैन ने योगा व कराटे संबंधी तकनीकी जानकारी दी, उन्होंने बिना हथियार के स्वयं का बचाव व सुरक्षा करने के बारे में बताया। कोशी जैन ने काता प्रस्तुत किया। इस अवसर पर सुयश जैन, भगवती लाल साहू, नरेन्द्र सिंह राठौड़,सोहनलाल मेघवाल, शैलवी राव, नुपूर चौधरी, यक्षिता श्रीवास्तव, शिवानी धोबी आदि उपस्थित थे।

7 वीं आर्थिक गणना मोबाईल एप के माध्यम से डिजीटल होगी काॅपी पेन का प्रयोग नहीं होगा, सीएससी करेगी पेपरलैस गणना

News

उदयपुर, 7 जून।  जिले में 7 वीं आर्थिक गणना के क्रियान्वयन हेतु एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन जिला परिषद् सभागार में किया गया। इस कार्यशाला में आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग, राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वे विभाग, उद्योग विभाग एवं सीएससी के अधिकारियों नें भाग लिया। मुख्य आयोजना अधिकारी एवं जिला स्तरीय सदस्य सचिव श्री पुनीत शर्मा ने 7 वीं आर्थिक गणना के उद्देश्य को बताते हुए कहा कि यह गणना भारत की भौगोलिक सीमा के भीतर सभी प्रतिष्ठानों की पूरी गणना प्रदान करती है, जिसमें असंगठित क्षेत्र शामिल हैं, जिनका रोजगार सृजन के मामले में भारतीय अर्थव्यवस्था में बहुत बड़ा योगदान है। आर्थिक जनगणना के दौरान एकत्र की गई जानकारी सामाजिक आर्थिक विकास योजना के लिए उपयोगी है राज्य और जिला स्तर पर यह भौगोलिक फैलाव एवं आर्थिक गतिविधियों के स्वामित्व समूहों और लगे हुए व्यक्तियों के समूहों में एक मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान करती है। 
शर्मा ने बताया कि उदयपुर जिले में इस आर्थिक गणना में आर्थिक गतिविधियों में संलिप्त औद्योगिक ईकाईयों की गणना के साथ-साथ उद्यम की स्थिति, संकार्य, प्रकृति, स्वामित्व, विŸा प्रबंधन एवं रोजगार इत्यादि से संबंधित सूचना संकलित की जायेगी। श्री शर्मा नें कहा की सूचना का संग्रहण सही करना है एवं गुणवŸाा का पूरा ध्यान रखना है, जानकारी लेनें की सही प्रक्रिया को अपनाएँ। एनएसएसओ अधिकारी श्री नवीन डूँगरवाल नें गणना में उपयोग किये जानें वाले तथ्यों से अवगत करवाया। वीएलई अशोक कल्याणी ने मोबाइल ऐप के सम्बध में विस्तृत चर्चा की सीएससी के जिला प्रबंधक अशोक पनवा एवं सितम्बर सिंह चैहान नें मोबाईल ऐप के माध्यम से डाॅटा संग्रहण की डेमो ऐन्ट्री करवाकर प्रायोगिक जानकारी दी। लगभग 280 सीएससी संचालकों नें इस कार्यशाला में भाग लिया। प्रगणक बनने हेतु न्यूनतम योग्यता सैकण्डरी उत्र्तीण युवक/युवती अपनी जानकारी बेबकउनकंपचनत/हउंपसण्बवउ पर अपना बायोडाटा प्रेषित कर सकतें हंै। 

बढती गर्मी में पशुओं की करें विशेष देखभाल

उदयपुर, 7 जून । बढती हुई गर्मी में हमें अपने स्वास्थ्य की विशेष देखभाल के साथ-साथ पशुओं के स्वास्थ्य की सुरक्षा की विशेष देखभाल करनी चाहिये। बढती गर्मी में इन्हें थोडा भी नजर अन्दाज करने से पशु उत्पादन में भारी कमी एवं पशुधन नष्ट होने की प्रबल संभावनाएं रहती है। यह बात प्रशिक्षण संस्थान के डाॅ0 सुरेन्द्र छंगाणी ने बढती गर्मी एवं पशुस्वास्थ्य संरक्षण विशयक संगोष्ठी में दिये। 
डाॅ0 छंगाणी ने इस अवसर पर कहा कि बढती गर्मी में पशु को पशुगृह में बाधें रखें व समय-समय पर पर्याप्त मात्रा में स्वच्छ पानी की उपलब्धता को सुनिश्चित करें। पक्षियों के लिये रखें गये पानी के बर्तन में भी समय-समय पर पानी को बदलते रहना चाहिये अन्यथा लम्बे समय से रखे हुये पानी का तापमान बढ जाने से वह पानी पक्षियों के पीने में आने से  घातक साबित हो सकता है। पालतु श्वान के स्वास्थ्य एवं तन्दुरुस्ती के लिए प्रतिदिन 80 मि.लि.ध्कि.ग्राम शरीर भार दर से  पानी पिलाना चाहिए । डाॅ0 छंगाणी के अनुसार श्वान की पानी की आवष्यकता का ध्यान हमें रखना चाहिए । श्वान को न ही अत्यधिक ठण्डा या न ही गरम पानी उपलब्ध कराना चाहिए। श्वान को आवश्यकता से कम पानी की मात्रा देने से निर्जलीकरण,त्वचा के रोग,अपच की समस्या,कब्जी,वृक्क एवं मूत्र मार्ग में संक्रमण होने की प्रबल संभावना होती है। संस्थान के उपनिदेषक डाॅ0 राकेश पोखरना ने इस अवसर पर कहा कि पशुगृह में भी पशु को इस प्रकार बांधे कि सीधी लू की लपटें पशु पर न आये। ऐसे मौसम में थोडी सी लापरवाही पशु उत्पादन में भारी गिरावट एवं पशुधन नष्ट होने की संभावनाओं को बढा सकता है। पशु पोषण का भी उपयुक्त प्रबंधन करना नितांत आवष्यक है। पशु के गर्म लू की चपेट में आने पर तुरन्त पशुचिकित्सक से सम्पर्क कर उसका उपचार करवायें। उपचार में देरी करने पर पशुपालक अपना पशुधन खो सकता है। डाॅ0 पोखरना के अनुसार बढती गर्मी के मौेसम में पशु को कृमि नाशक दवा देकर सुरक्षित रखा जा सकता हैं। प्रतिकूल परिस्थितियों में पशु उत्पादन को बनाये रखने एवं पशुधन को नष्ट होने से बचाये रखने के लिये उचित पशु-प्रबंधन ही बेहतर विकल्प है । इस अवसर पर डाॅ सुरेश शर्मा ने गर्मियों में पशुओं में होने वाले रोगों की जानकारी दी, डाॅ पदमा मील ने पशुओं के गर्मी के चपेट में आने पर तुरन्त पशु चिकित्सक से संपर्क करने की बात कही। 

देवस्थान एवं पर्यटन विभाग मंत्री सोमवार को लेंगे बैठक

उदयपुर, 7 जून। देवस्थान एवं पर्यटन विभाग मंत्री श्री विश्वेन्द्र सिंह रविवार को सांयकाल 4 बजे नाथद्वारा से उदयपुर पहुंचेंगे। रात्रि विश्राम के पश्चात सोमवार को प्रातःकाल 10 बजकर 30 मिनट पर वे देवस्थान विभाग की समीक्षात्मक बैठक लेंगे। दोपहर पश्चात 3 बजे जयपुर के लिए प्रस्थान करेंगे।

रोजगार हेतु 9 एवं प्रशिक्षण हेतु 32 चयनित

उदयपुर, 7 जून। रोजगार कार्यालय की ओर से शुक्रवार को कार्यालय परिसर में एक दिवसीय केम्पस भर्ती शिविर आयोजित किया गया। सहायक निदेशक ने बताया कि शिविर में लगभग 150 आशार्थियों ने भाग लिया। इनमें से 9 आशार्थियों का रोजगार हेतु प्राथमिक चयन किया गया और 32 आशार्थियों का प्रशिक्षण हेतु चयन किया गया। 

खसरा रुबेला अभियान की क्रियान्विति को लेकर मुख्य सचिव ने ली वीसी संबंधित विभाग अपने दायित्वों का भलीभांति निर्वहन करें

News

उदयपुर, 10 जून/भारत सरकार के निर्देशानुसार आगामी जुलाई माह में प्रारंभ हो रहे खसरा रुबेला अभियान की क्रियान्विति को लेकर सोमवार को राज्य के मुख्य सचिव देवेन्द्र भूषण गुप्ता ने प्रदेश के सभी जिला कलक्टर्स एवं अभियान से जुड़े विभिन्न विभागीय अधिकारियों के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंस की। उन्होंने अभियान को प्रभावी बनाने एवं प्रत्येक जिलेवार निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने में संबंधित विभागों को समन्वित प्रयासों के साथ कार्य करने के निर्देश दिए। साथ ही विभागों को सौंपे गये दायित्वों का भलीभांति निर्वहन करने को कहा।

वीसी में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के विशिष्ट शासन सचिव डाॅ. समित शर्मा ने पावर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से बताया कि राज्य के 9 माह से 15 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चों के टीकाकरण के लिए जुलाई माह 2019 से खसरा-रूबेला अभियान चलाया जाएगा। अभियान के पहले 2 से 3 सप्ताह में सभी सरकारी, गैर सरकारी, निजी विद्यालयों, मदरसों बालवाड़ी एवं मकतब आदि में बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। अगले 2 सप्ताहों में ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों के आउटरीचध्वाह्य सत्रों पर स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों छूटे हुए बच्चों आदि तथा मोबाइल टीम द्वारा ईट भट्टों घुमंतू आबादी आबादी के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। खसरा-रूबेला अभियान के छठे सप्ताह में छूटे हुए बच्चों के टीकाकरण हेतु इस गतिविधि को आवश्यकता अनुसार पुनः दोहराया जाएगा।

जानलेवा व अतिसंक्रामक रोग है खसरा

उन्होंने बताया कि खसरा एक जानलेवा एवं तीव्र गति से फैलने वाला अतिसंक्रामक रोग है तथा प्रभावित रोगी द्वारा खांसने एवं छिकने से फैलता है। इसके प्रभाव से बच्चों को निमोनिया, दस्त एवं मस्तिष्क में संक्रमण जैसी घातक बीमारियों का खतरा बना रहता है, जो नवजात शिशुओं एवं बच्चों की मृत्य का एक प्रमुख कारण है। इसी प्रकार गर्भावस्था के आरंभ से ही महिला को रुबेला का संक्रमण होने की संभावना रहती है। इसी कारण शिशु में अंधापन, बहरापन, मानसिक मन्दता एवं दिल की बीमारी हो सकती है। रूबेला संक्रमण से गर्भवती महिला में गर्भपात एवं स्टील बर्थ की संभावना भी बढ़ जाती है।

टीकाकरण ही सशक्त माध्यम

खसरा रूबेला का टीका इस रोग से बचाव का एक सशक्त माध्यम है। खसरा एवं रुबेला रोग का बचपन में टीकाकरण कराने पर इसके प्रसार एवं गंभीर खतरों को रोका जा सकता है। इसी उद्देश्य से इस अभियान की शुरूआत की जा रही है।

इस अवसर पर कलेक्ट्रेट परिसर स्थित एनआईसी के वीसी हाॅल में जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी, नगर निगम आयुक्त अंकित कुमार सिंह, अतिरिक्त जिला कलक्टर नरेश बुनकर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. दिनेश खराड़ी, जिला रसद अधिकारी ज्योति ककवानी, महिला एवं बाल विकास उपनिदेशक महावीर खराड़ी सहित अन्य संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

देवस्थान विभाग के मंत्री ने ली बैठक बडे़ ट्रस्टों की होगी जांच, होगी सख्त कार्यवाही मंत्री ने एक को किया निलंबित, दूसरे को चार्जशीट

News

उदयपुर, 10 जून/समिति का गठन कर प्रदेश के बड़े ट्रस्टों की जांच की जाएगी एवं अनियमितता पाएं जाने पर उनके विरूद्ध संख्त कार्यवाही की जाएगी। यह बात देवस्थान विभाग मंत्री श्री विश्वेंद्र सिंह ने सोमवार को विभाग के राज्य मुख्यालय पर आयोजित बैठक के दौरान प्रदेश के विभागीय अधिकारियों से कही। उन्हांेने कहा कि इन बड़े ट्रस्टों में अनियमितताओं की शिकायत लम्बे समय से प्राप्त हो रही है।

बैठक में श्री सिंह ने कहा कि कैला देवी ट्रस्ट, मोती डूंगरी गणेश जी ट्रस्ट, सालासर बालाजी ट्रस्ट, मेहंदीपुर बालाजी ट्रस्ट, गोविन्द देवजी ट्रस्ट सहित अन्य बड़े ट्रस्टों में जीएसटी एवं निःशुल्क प्रसाद वितरण की व्यवस्था को लेकर अनियमितताओं की शिकायतें मिली है, इसके लिए समिति का गठन कर इन अनियमितताओं की जांच की जाएगी एवं अनियमितताएं मिलने पर नियमानुसार सख्त व कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

श्री सिंह ने निर्देश दिए कि सभी सहायक आयुक्त अपने-अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले मंदिरों की संख्या, उनके चढ़ावे एवं अन्य आय व संपत्ति आदि का समुचित रिकॉर्ड संधारण करें एवं समयबद्ध निरीक्षण कर उन्हें अतिक्रमण मुक्त कराएंगे। भगवान के आभूषणों की सूची तैयार कर प्रत्येक छः माह में उनका मूल्यांकन भी करवाया जाएगा। मंदिरों की खाते की कृषि भूमि का रिकॉर्ड संधारण के लिए भी उन्होंने निर्देश दिए। इन पर अतिक्रमण की स्थिति में प्रत्येक सहायक आयुक्त अपने क्षेत्र की केस रिपोर्ट बनाकर भी प्रस्तुत करें।

         मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि विभाग की राज्य के भीतर एवं राज्य से बाहर सभी परिसंपत्तियों की सुरक्षा को लेकर उचित कदम उठाएं। विभागीय परिसंपत्तियों के किराए की बहुत कम वसूली पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा कि किराया वसूली का कार्य तेज करें।

विभाग द्वारा विभिन्न एजेंसी के माध्यम से करवाए जा रहे कुल 63 कार्यों की प्रगति रिपोर्ट भी उन्होंने ली। जो कार्य पूर्ण हो चुके हैं उनकी गुणवत्ता के बारे में जानकारी लेते हुए शिकायतों पर उचित कार्रवाई करने के निर्देश भी उन्होंने दिए।

मंत्री ने 7 अप्रारंभ कार्यों को शीघ्र प्रारंभ कर समयबद्ध तरीके से पूर्ण करने के निर्देश दिए। आरएसआरडीसी, पुरातत्व, सार्वजनिक निर्माण विभाग, जल संसाधन एवं देवस्थान विभाग द्वारा यह कार्य विभिन्न स्थानों पर करवाए जा रहे हैं।

एक निलंबित, एक को चार्जशीट

बैठक के दौरान श्री सिंह ने विभागीय अधिकारियों द्वारा काम में लापरवाही को गंभीरता से लेते हुए काम में कोई कोताही नहीं बरतने की हिदायत दी। लापरवाही की शिकायत पर बीकानेर के निरीक्षक भंवर सिंह शेखावत को तुरंत निलंबित कर दिया। वहीं सहायक आयुक्त महेन्द्र देवतवाल को चार्जशीट दी।

धर्मशालाएं देंगे लीज पर

बैठक में बताया गया कि विभाग की 17 धर्मशालाओं को लीज पर दिया जाएगा जिससे उनका समुचित रखरखाव होगा, यात्रियों को उचित सुविधा मिलेगी एवं विभाग की आय में भी बढ़ोतरी होगी। उन्होंने सभी सहायक आयुक्तों को 7 दिन के भीतर लीज की कार्रवाई कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा।

बैठक में विभाग के आयुक्त कृष्ण कुणाल, अतिरिक्त आयुक्त दिनेश कोठारी सहित सहायक आयुक्त एवं सार्वजनिक निर्माण विभाग, आरएसआरडीसी, पुरातत्व, जल संसाधन एवं अन्य सहयोगी विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

आपंदा प्रंबधन पर कार्यशाला

News

उदयपुर, 10 जून/जिले के कानोङ मे 2 राज एनसीसी यूनिट द्रारा तुलसी अमृत सीनियर सैकेन्ङरी विद्यालय मे आपदा प्रबंधन हेतु कार्यशाला का आयोजन किया गया।

कार्यशाला मे राज्य सरकार के निर्देश एवं श्रीमान नियंत्रक (कलक्टर) नागरिक सुरक्षा उदयपुर के आदेशानुसार उप नियन्त्रक नागरिक सुरक्षा उदयपुर के नेतृत्व मे नागरिक सुरक्षा विभाग उदयपुर सेएक बीस सदस्यों की टीम को आपदा प्रशिक्षण एवं ङेमोस्टेशन हेतु भेजा गया। टीम द्रारा आपात स्थिति-प्राकृतिक एवं मानव निर्मित आपदा के दौरान आपातकालीन बचाव मे काम आने वाले उपायों का जीवंत प्रदर्शन किया गया। प्रशिक्षण अन्तर्गत खोज एवं बचाव, प्राथमिक चिकित्सा, सी.पी.आर एवं अग्निशमन का प्रशिक्षण एवं ङेमोस्टेशन किया गया। नागरिक सुरक्षा की टीम द्रारा अभी हाल मे ही भारत के विभिन्न शहरो की बहुमंजिला इमारतों मे लगी आग पर अग्निशमन उपायों एवं बहुमंजिला इमारतों से सामान्य किन्तु कारगर उपायों द्वारा कैसे सुरक्षित नीचे उतारा जाए इसका पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन एवं प्रेक्टिकल ङेमो के माध्यम से प्रभावी प्रदर्शन किया गया। सभी उपायों को इम्प्रोवाइजेशन तरीकों से अमल मे लाया गया।

संकर नस्ल के पशुओं को अब चाहिये कूलर एवं पंखे

उदयपुर 10 जून/ उदयपुर के तापमान में दिन ब दिन बढोतरी हो रही हैं ऐसे तापमान में संकर नस्ल के पशुओं के लिये कूलर एवं पंखें की व्यवस्था करना निन्तान्त आवश्यक है। यह आह्वान पशुपालन प्रशिक्षण संस्थान के डाॅ. सुरेन्द्र छंगाणी ने सभी पशुपालकों से किया । डाॅ. छंगाणी के अनुसार बढते तापमान से पशुओं में एनवायरमेन्ट स्ट्रेस बढता है, इसमें संकर नस्ल के पशु अत्यधिक प्रभावित होते हैं। संकर नस्ल के पशुओं का कम्पर्टजोन (आरामदायक स्थिति) 15 डिग्री से 25 डिग्री तक तापमान होता है, भारतीय परिस्थितियों में यह 30-32 डिग्री तक में भी दुग्ध इनका उत्पादन बना रहता हे। किन्तु 32 डीग्री से. अधिक तापमान होने पर इनका अेडोपशन मैकेनिजम प्रभावित होने लगता हैं एवं दुग्ध उत्पादन प्रभावित होने लगता है। 37 से 40 डीग्री से. तक में अेडोपशन मेकेनिजम पूर्ण रूप से प्रभावित होने लगता हैं जिससे दुग्ध उत्पादन बिल्कुल कम एवं पशु के मृत्यु की संभावना अधिक हो जाती है। अतः ऐसी स्थिति से निबटने के लिये संकर नस्ल के पशुओं के लिये पंखे कूलर की व्यवस्था करनी चाहिये । डाॅ. छंगाणी के अनुसार संकर नस्ल के पशु में प्रतिदिन प्रति पशु 10 प्रतिशत तक दुग्ध उत्पादन में गिरावट आती हैं जबकि देशी पशु में यह गिरावट 2.92 प्रतिशत तक ही आती है। पशुगणना 2012 के अनुसार राज्य में 17 लाख 35 हजार संकर नस्ल केे गौ वंश हैं। जब की राज्य का 3.06 प्रतिशत अर्थात 53 हजार 113 संकर नस्ल के गौ वंश उदयपुर में है।

रोटरी क्लब की ओर से ग्रामीण क्षेत्रों में निःशुल्क टैंकर जलापूर्ति योजना

90 से 95 गांव हो रहे है लाभान्वित

उदयपुर, 10 जून/ग्रीष्मकाल के मद्देनजर रोटरी क्लब उदयपुर की ओर से शहर के प्रमुख उद्योगपतियों के सहयोग से जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति के लिए प्रारंभ की गई निःशुल्क जलापूर्ति योजना भीषण गर्मी में राहत प्रदान करने का कार्य कर रही है। इस योजना से जिले के 90 से 95 गांव लाभान्वित हो रहे है।

रोटरी क्लब के उपाध्यक्ष महेन्द्र कुमार टाया ने बताया कि इस निःशुल्क व्यवस्था में शहर के मंगला फाउण्डेशन, मेवाड़ पाॅलिटेक्स लिमिटेड, चोक्सी हेरियर्स, पाइरोटेक/टेम्पलेस, आर्कगेट फाउण्डेशन, ंिसघल फाउण्डेशन (पीआई इंडस्ट्रीज, सिक्योर मीटर्स, वोल्केन इण्डिया), जी.आर.इन्फ्रा प्राइवेट लिमिटेड, राॅयल मोटर्स-मनामा मोटर्स, चेटक माॅल-अनन्ता हाॅटल, रोज मार्बल-अरावली मिनरल्स,गुरुप्रीत ग्रुप-लाभगढ़ रिसोर्ट, राॅका आर्गेनिक्स-वेस्टर्न ड्रग्स, फ्री सबीलिल्ला (बन्दुक वाला), हिता वाला कन्ट्रक्शन, अरिहंत टाइल्स एवं मार्बल, रवि बर्मन-देवेन्द्र सिंह पाहवा-फकरूद्दीन, एस.के.एंटरप्राइजेस-केजार अली, गुलाब बोहरा एंड सन्स, उपकार मसाले, उपकार स्टोर, मोगरा चेरिटेबल ट्रस्ट आदि का सहयोग इस पुनीत कार्य में मिल रहा है। इस परियोजना के अध्यक्ष बी.एच.बापना, प्रचार अधिकारी नरेन्द्र धींग द्वारा प्रशासनिक रूप से माॅनिटरिंग की जा रही है।

उन्होंने बताया कि गत 14 अप्रेल को यह योजना 70 टैंकर से प्रारंभ की गई जिसकी वर्तमान में संख्या 143 तक पहंुच गई है। इन टैकर्स के माध्यम से गिर्वा व बड़गांव तहसील की सभी ग्राम पंचायतों सहित कुराबड़ की कुछ ग्राम पंचायतों में जलापूर्ति की जा रही है।

वनाधिकार पट्टों के मामले में उदासीनता बरतने पर कलक्टर हुईं नाराज

ग्राम सभा में वन विभाग के कर्मचारियों एवं पटवारी को लगाई फटकार

उदयपुर, 11 जून/जिले की काया ग्राम पंचायत मुख्यालय पर मंगलवार को वनाधिकार पट्टों को लेकर ग्राम सभा का आयोजन किया गया। स्वयं जिला कलेक्टर श्रीमती आनंदी ने ग्राम सभा में पहुंच कर ग्रामीणों से संवाद किया। वनाधिकार पट्टों के कार्य में वन विभाग के कर्मचारियों एवं पटवारी की उदासीनता को देखते हुए जिला कलक्टर बहुत नाराज हुई और तुरंत ही लंबित प्रकरणों की पत्रावली तैयार कर ग्राम सभा में रखने और उन्हें अग्रेषित करने के सख्त निर्देश दिए।

हाल ही में जिला कलक्टर ने एक बैठक लेकर जिले में वनाधिकार पट्टों के मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए पूर्व में निरस्त प्रकरणों में से जांच कर पट्टे देने योग्य पाए जाने वाले प्रकरणों को ग्राम सभा के माध्यम से उपखंड अधिकारी समिति एवं जिला स्तरीय समिति तक अग्रेषित करने के निर्देश दिए थे। इसी क्रम में काया में 42 प्रकरणों के संबंध में कार्यवाही हेतु ग्राम सभा आयोजित की गई थी। इस ग्राम सभा में योग्य प्रकरणों को प्रस्तुत कर अनुमोदन पश्चात उपखंड अधिकारी स्तर की समिति को भेजना था। लेकिन वन विभाग के कर्मचारियों की उदासीनता एवं लंबी छुट्टी पर गए पटवारी की उदासीनता के चलते प्रकरणों पर यथोचित प्रगति नहीं हुई। इस बात पर जिला कलक्टर बहुत नाराज हुई और वन विभाग के कर्मचारियों एवं पटवारी को फटकार लगाई।

उदासीनता बरतने वालों के विरूद्ध करें कार्रवाई

ग्राम सभा में उपस्थित उपखंड अधिकारी हनुमान सिंह राठौड़ एवं विकास अधिकारी को जिला कलक्टर ने निर्देश दिए कि वे अन्य ग्राम पंचायतों में भी निरीक्षण करें। इसी तरह की उदासीनता पाई जाती है तो संबंधित कार्मिकों के विरुद्ध कार्रवाई करें।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पूर्व में निरस्त वनाधिकार पट्टों में से योग्य पाए जाने वालों को वनाधिकार पट्टे जारी करने की कार्यवाही चल रही है। इसके पश्चान नए आवेदन लिए जाएंगे।

जिला कलक्टर ने किया मावली के तहसील व उपखण्ड कार्यालय का निरीक्षण

नरेगा के कार्मिक बढ़ाने व बांधों के रखरखाव के दिए निर्देश

उदयपुर, 11 जून/जिले के मावली उपखण्ड मुख्यालय पर मंगलवार को जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी ने तहसील व उपखण्ड कार्यालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान सभी सम्बंधित अधिकारियों की बैठक भी ली। बैठक में उपखण्ड अधिकारी मोहन सिंह,तहसीलदार कालूराम रेगर, विकास अधिकारी जितेंद्र सिंह चुण्डावत सहित कई प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक में कलक्टर ने क्षेत्र में चल रहे नरेगा कार्यों में कार्मिकों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए। यहां स्वीकृत 11 हजार कार्मिकों में5141 कार्मिक ही लगे है। उन्होंने वर्षाकाल को देखते हुए क्षेत्र में बांधों के रखरखाव एवं मरम्मत आदि को लेकर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। पालनहार योजना के सर्वे के अनुसार पात्रों के फाॅर्म भरवाकर लाभ दिलाने के निर्देश दिए। इसके साथ ही क्षेत्र में चल रहे विभिन्न विकास कार्यों एवं योजनाओं की प्रगति पर समीक्षा करते हुए लम्बित राजस्व प्रकरणों के शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिये।

परमिट जारी करने हेतु वाहन स्वामियों से आवेदन पत्र आमंत्रित

ग्रामीण क्षेत्रों में आवागमन बनेगा सुगम, शीघ्र खुलेंगे नवीन मार्ग

उदयपुर, 11 जून/अनुसूचित क्षेत्र में लोक परिवहन सेवा को मजबूत करने एवं ग्रामीण क्षेत्रों के मार्गों में न्यूनतम टैक्स में बेहतर सेवा उपलब्ध कराने की दृष्टि से परिवहन विभाग ने वृहद् स्तर पर कार्य प्रारम्भ किया है।

प्रादेशिक परिवहन अधिकारी डाॅ. मन्ना लाल रावत ने बताया कि उदयपुर में विभिन्न श्रेणियों के 1428, डूंगरपुर में 278, बांसवाड़ा में445 एवं राजसमंद में 295 मार्ग राज्य सरकार द्वारा खोले गये हैं, जिन पर विधिवत् परमिट जारी करने हेतु वाहन स्वामियों से आवेदन पत्र आमंत्रित किये गये हैं।

नये मार्ग खोलने के प्रस्ताव राज्य सरकार को प्रेषित

उन्होंने बताया कि यह संज्ञान में आया है कि विगत वर्षों में अनुसूचित क्षेत्रों में नई सड़कों का तो व्यापक रूप से विस्तार हुआ है किंतु सुदूर आदिवासी अँचल के निवासियों को पर्याप्त, सस्ती, सुलभ और सुरक्षित सार्वजनिक परिवहन सेवायें उपलब्ध नहीं हैं या आवश्यकता से कम है। इसी को ध्यान में रखते हुए परिवहन क्षेत्र के उदयपुर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर एवं राजसमंद की तहसीलों को केन्द्र में रखकर क्षेत्र में नवीन मार्ग खोले जाने की कार्यवाही त्वरित गति से की जा रही है। उन्होंने जानकारी दी कि अनुसूचित क्षेत्रों में विभिन्न श्रेणियों के नये मार्ग खोलने की कार्य योजना के तहत उदयपुर परिवहन क्षेत्र के उदयपुर जिले में 80, डूंगरपुर में 104, बांसवाड़ा में 60 एवं राजसमंद में 5 नये मार्ग खोलने के प्रस्ताव राज्य सरकार को भिजवाये गये हैं।

आमजन को मिलेगी सस्ती, सुलभ और सुरक्षित परिवहन सेवा

डाॅ. रावत ने जानकारी दी कि नवीन मार्ग खुल जाने की स्वीकृति मिलने के बाद तहसील मुख्यालयों को विशेष रूप से 10 से 20कि.मी. की दूरी वाले राजस्व ग्रामों एवं कस्बों में 8 से 25 बैठक क्षमता वाले वाहन यथा-ओमनी बस, टाटा मैजिक, क्रूज़र, इनोवा इत्यादि श्रेणी के यानों को मंजिली वाहन श्रेणी मानते हुए अधिक से अधिक परमिट दिये जा सकेंगे। इस श्रेणी के वाहनों को मंजिली यान के परमिट मिल जाने से इन मार्गों पर आॅवर क्राउडिंग पर नियंत्रण होगा साथ ही आम जन को सार्वजनिक परिवहन सेवा तुलनात्मक रूप से और भी सस्ती, सुलभ और सुरक्षित उपलब्ध हो सकेगी।

जिला स्तरीय यातायात प्रबंधन समिति की बैठक 12 को

उदयपुर, 11 जून/जिला स्तरीय यातायात प्रबंध समिति की बैठक बुधवार, 12 जून को अपराह्न 3 बजे जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी की अध्यक्षता में जिला कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित होगी। यह जानकारी समिति के सदस्य सचिव ने दी।

जिला कृषि विकास समिति एवं विभिन्न योजनाओं की समीक्षा बैठक 13 को

उदयपुर, 11 जून/जिला कृषि विकास कार्यक्रमों के प्रभावी, गुणवत्तापूर्ण, उद्देश्यपरक एवं समयबद्ध क्रियान्वयन हेतु गठित जिला कृषि विकास समिति तथा कृषि, उद्यान व आत्मा योजना कार्यों की समीक्षा बैठक जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी की अध्यक्षता में 13 जून को सायं 4.30 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित होगी। यह जानकारी कृषि उप निदेशक (विस्तार) ने दी।

स्नात्तक स्तर एवं स्नात्तकोत्तर की नियमित कक्षाएं एक जुलाई से

उदयपुर, 11 जून/राजकीय मीरा कन्या महाविद्यालय, उदयपुर में स्नात्तक स्तर एवं स्नात्तकोत्तर स्तर की समस्त कक्षाएं एक जुलाई से प्रारम्भ हो जाएगी।

महाविद्यालय प्राचार्य ने बताया कि प्रथम वर्ष में प्रवेश हेतु आॅन लाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 15 जून है। साथ ही स्नातक पार्ट द्वितीय व पार्ट तृतीय में प्रवेश नवीनीकरण के लिये सामान्य वर्ग की छात्राओं के लिए आय प्रमाण-पत्र व ओबीसी/एमबीसी वर्ग की छात्राओं को नाॅन-क्रिमी लेयर का प्रमाण पत्र महाविद्यालय में प्रस्तुत करने की तिथि 15 जून तक बढ़ा दी गई है। निर्धारित अवधि में छात्राएं यदि वांछित प्रमाण-पत्र प्रस्तुत नहीं करती है तो उसे सामान्य आयकर दाता की श्रेणी का शुल्क जमा कराना होगा।

स्नातक पार्ट द्वितीय व पार्ट तृतीय में प्रवेश नवीनीकरण के लिए छात्राओं को विश्वविद्यालय परीक्षा परिणाम घोषित नहीं होने पर भी दिनांक 26 जून,2019 तक ई-मित्र पर प्रवेश शुल्क जमा कराना है। अधिक जानकारी के लिए महाविद्यालय की हेल्प-डेस्क या दूरभाष नं. 8278693325 पर कार्यालय समय में सम्पर्क किया जा सकता है।

निःशुल्क मधुमेह एवं थाॅयराइड जांच एवं परामर्श शिविर

उदयपुर 11 जून/आरोग्यम् आयुर्वेद हास्पीटल मधुवन, उदयपुर एवं गुरूकुल आयुर्वेद के सौजन्य से 12 जून को सुबह 9 बजे से 11बजे तक पंजीकृत मरीजों को शुगर, हिमोग्लोबिन एवं थाॅयराइड की निःशुल्क जांच की जाएगी। यह जानकारी आरोग्यम आयुर्वेद हास्पीटल के डाॅ. मदनलाल ने दी।

बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित

उदयपुर, 11 जून/आसन्न वर्षाकाल के मद्देनजर जल संसाधन संभाग उदयपुर की ओर से जल संसाधन खण्ड उदयपुर में बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है, जो 15 जून से प्रभावी रहेगा। जल संसाधन वृत्त उदयपुर के अधीक्षण अभियंता द्वारा जारी आदेशानुसार इस कक्ष के प्रभारी जल संसाधन संभाग के तकनीकी सहायक एवं अधिशाषी अभियंता सुरेश मीणा एवं सह प्रभारी उदयपुर जल संसाधन खण्ड के अधिशाषी अभियंता विनीत शर्मा होंगे।

जिला मुख्यालय पर पुर्नवास गृह संचालन के लिए प्रस्ताव आमंत्रित

उदयपुर, 11 जून/जिले में भिखारियों एवं दरिद्र व्यक्ति को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने, उनकों स्वावलंबन एवं आत्मनिर्भर बनाने के दृष्टिकोण से स्वयंसेवी संस्थाओं के माध्यम से पुर्नवास गृह का संचालन किया जाना प्रस्तावित है। इस प्रकार का कार्य करने वाली स्वयंसेवी संस्थाओं से जिला मुख्यालयों पर पुर्नवास गृह संचालन के प्रस्ताव मांगे गये है। यह जानकारी सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक गिरीश भटनागर ने दी।

खेलकूद प्रशिक्षण शिविर के लिए आवेदन आमंत्रित

उदयपुर 11 जून/राज्य में खेलों के विकास के लिए राजस्थान राज्य क्रीडा परिषद द्वारा जिले की खेल प्रतिभाओं को प्रशिक्षण शिविर के माध्यम से तराशने के लिए सभी जिला मुख्यालयों पर प्रशिक्षण शिविरों का आयोजन 15 से 30 जून तक किया जा रहा है। इसी क्रम में उदयपुर जिला मुख्यालय पर क्षेत्रीय खेलकूद प्रशिक्षण केन्द्र के तत्वावधान में ग्रीष्मकालीन खेलकूद प्रशिक्षण शिविर आयोजित होगा। प्रभारी खेल अधिकारी ने बताया कि इसके लिए पंजीयन आवेदन कार्यालय समय में क्षेत्रीय खेलकूद प्रशिक्षण केन्द्र,लवकुश इण्डोर स्टेडियम से प्राप्त किये जा सकते हैं। प्रशिक्षण शिविर में बालक-बालिकओं के लिये आयु सीमा 12 से 18 वर्ष रहेगी एवं आवेदन पत्र के साथ आयु प्रमाण पत्र लगाना आवश्यह होगा।

उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण के लिए खिलाडियों की संख्या खेल अनुसार निर्धारित की गई है जिसमें वाॅलीबाल, हाॅकी, बाॅस्केटबाल,फुटबाल, हैण्डबाल, कबड्डी व क्रिकेट के लिए 20-20 तथा तीरंदाजी, बैडमिंटन, टेबल टेनिस, वुशु, जूडो, जिम्नास्टिक, बाॅक्सिंग, भारोत्तोलन,एथलेटिक्स व कुश्ती के लिए 10-10 खिलाडियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण शिविर के दौरान प्रशिणार्थियों को क्रीडा परिषद एवं क्षैत्रीय खेलकूद प्रशिक्षण केन्द्र, उदयपुर द्वारा अल्पाहार, टी शर्ट एवं प्रमाण-पत्र उपलब्ध करवाए जाएंगे।

परीक्षार्थियों के लिए शीतल जल प्याऊ

उदयपुर 11 जून/भारतीय स्टेट बैंक के प्रशासनिक कार्यालय, उदयपुर द्वारा आई.ओ.एन. डिजीटल ट्रान्सपोर्ट नगर उदयपुर में एसबीआई पीओ-प्री परीक्षा में आने वाले स्टूडेंस व उनके परिजन जनों के लिए  शीतल जल प्याऊ व योनो काउन्टर लगाया गया। भारतीय स्टेट बैंक की ओर से मुख्य प्रबन्घक बालेन्द्र प्रसाद के मार्गदर्शन में विपिन कुमार, प्रवीण राणा, शर्मिला महतो, आरती तथा पिंकी ने अपनी सेवाएं दी।

गोगुन्दा व बड़गांव की ग्राम पंचायतों में चल रहे नरेगा कार्यों का निरीक्षण

उदयपुर 11 जून/जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी द्वारा गठित आकस्मिक जांच दल ने मंगलवार को पंचायत समिति गोगुन्दा एवं बडगांव की ग्राम पंचायतों में प्रगतिरत महात्मा गांधी नरेगा के कार्यों का निरीक्षण किया।

इस दौरान बड़गंाव पंचायत समिति के भूताला के वास में चरागाह विकास कार्य में श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 41 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड, मेडिकल कीट, नहीं पाये गये किन्तु छाया पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था। वहीं गांव में इस कार्य के लिए 46 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 33 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड, मेडिकल कीट, नहीं पाये गये किन्तु छाया पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था।

टैरींग की भागल में 30 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 26 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड, मेडिकल कीट, नहीं पाये गये किन्तु छाया पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था। लौसिंग का धाना में चल रहे कार्य पर 145श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 121 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड, मेडिकल कीट, नहीं पाये गये किन्तु छाया पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था।

वहीं चान्दनों की भागल में चल रहे कार्य पर 77 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 52 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड नहीं पाये गये किन्तु मेडीकल किट, छाया-पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था। इसी प्रकार पूंजवातों का भीलवाडा में सम्पर्क सडक निर्माण कार्य के दौरान 106 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 83 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड नहीं पाये गये किन्तु मेडीकल किट, छाया-पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था। पीपड में आदर्श तालाब निर्माण कार्य पीपड कार्य पर 30 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 22 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड नहीं पाये गये किन्तु मेडीकल किट, छाया-पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था।

कदमाल क्षेत्र में मगरा बस्ती से टकडा घाटी की ओर बागेलों का गुडा में सम्पर्क सडक कार्य के लिए 142 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 22 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर मेडिकल किट एवं सूचना बोर्ड नहीं पाये गये किन्तु छाया-पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था। कदमाल में किशन लाल के मकान से गारपाट कुंआ तक सम्पर्क सडक कार्य के लिए  49 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 42 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड नहीं पाये गये किन्तु मेडीकल किट, छाया-पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी  जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था। कदमाल में  पालीवाल समाज के श्मशान की ओर, सम्पर्क सडक कार्य के लिए 30 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 22 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड एवं छाया की व्यवस्था नहीं पाई गयी,किन्तु मेडीकल किट एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। कार्य का पूर्व में किसी भी जेटीए/अभियंता द्वारा निरीक्षण नहीं किया गया था।

पंचायत समिति गोगुन्दा

दल द्वारा गोगुन्दा क्षेत्र में किये गये निरीक्षण के दौश्रान पदमाबाड़ी में सम्पर्क सडक कार्य के लिए 83 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 56 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड की व्यवस्था नहीं पाई गयी, किन्तु मेडीकल किट, छाया एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया।

मादड़ा में सम्पर्क सडक कार्य के लिए 35 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 22 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड की व्यवस्था नहीं पाई गयी, किन्तु मेडीकल किट, छाया एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। मादड़ा में मेन रोड से श्मशान घाट तक सम्पर्क सडक कार्य के लिए 58 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 47 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड की व्यवस्था नहीं पाई गयी, किन्तु मेडीकल किट, छाया एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट अनुपस्थित था। कुकडा खेडा में नाडी निर्माण कार्य के लिए 33 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 25 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड की व्यवस्था नहीं पाई गयी, किन्तु मेडीकल किट, छाया एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट अनुपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। मजाम में गुलाबपुरा प्रतापपुरा के मकान से कुण्ड तक सम्पर्क सडक कार्य के लिए 141 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 103 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड की व्यवस्था नहीं पाई गयी, किन्तु मेडीकल किट, छाया एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट अनुपस्थित था।

मादड़ा में श्मशान घाट के पास नाडी निर्माण कार्य के लिए 40 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर 18 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर मेडीकल किट एवं सूचना बोर्ड की व्यवस्था नहीं पाई गयी, किन्तु छाया एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। सभी श्रमिकों के पास नवीन अद्यतन जाॅब कार्ड पाये गये। इसी प्रकार अम्बावा में सडक पटरी मरम्मत व रखरखाव कार्य सम्पर्क सडक के लिए 72 श्रमिकों के मस्टरोल जारी किये गये थे किन्तु मौके पर53 श्रमिक ही कार्यरत थे। कार्य स्थल पर सूचना बोर्ड की व्यवस्था नहीं पाई गयी, किन्तु मेडीकल किट, छाया एवं पानी की व्यवस्था थी। मेट मस्टरोल सहित उपस्थित था। गु्रप में श्रमिक नियोजन नहीं पाया गया। सभी श्रमिकों के पास नवीन अद्यतन जाॅब कार्ड पाये गये।

इन समस्त कमियों के लिये पंचायत समितियांे से संबंधित कार्यक्रम, विकास अधिकारी, सहायक अभियंता, कनिष्ठ तकनिकी सहायक एवं ग्राम विकास अधिकारी को नोटिस जारी कर अनुशासनात्मक कार्यवाही प्रारम्भ कर दी गयी है एवं मेट को काली सूचीमें डालने के निर्देश जारी कर दिये गये है। महात्मा गांधी नरेगा में किसी भी अनियमितता/शिकायत हेतु टोल फ्री नम्बर 1800-180-6127 पर संपर्क किया जा सकता है।

‘‘आदि महोत्सव“ 14 से

शिल्पहाट, प्रदर्शनी व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का होगा आयोजन

उदयपुर, 11 जून/जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग, टीआरआई और भारतीय लोक कला मण्डल, उदयपुर के सयंुक्त तत्वावधान में14 से 16 जून तक ‘‘आदि महोत्सव“ का आयोजन किया जाएगा।

टीएडी की अतिरिक्त आयुक्त अंजली राजौरिया ने बताया कि भारतीय लोक कला मण्डल, उदयपुर तथा टीआरआई के सयंुक्त तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में प्रतिदिन सायं 5 बजे से आदि शिल्प हाट एवं जनजाति माण्डना एवं भिŸाी चित्रण प्रदर्शनी, सायं 8बजे से जनजाति कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां तथा 16 जून को जनजाति प्रतिभा खोज प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। इस समारोह में राजस्थान के जनजाति कलाकार अपनी कला को प्रस्तुत करने के साथ-साथ एक-दूसरे की कला को निहार सकेंगे।

उन्होंने बताया कि राजस्थान की जनजाति कला के कलाकारों को प्रोत्साहित करने, उन्हे उचित प्रकार से मंच प्रदान करने तथा उनकी कला, शिल्प को प्रचारित करने तथा जन-जन तक पहुचांने के उद्देश्य से आयोजित इस समारोह में राजस्थान के लगभग 40 शिल्पकार,गुणीजन जो अपने जड़ी- बूटी के ज्ञान से लोगों को परिचित कराएगें तथा राजस्थान की वन सम्पदा में उपलब्ध जड़ी- बूटियों से किस प्रकार,किस -किस बीमारियों का इलाज हो सकता है, बताएगें। साथ ही शिल्पकार अपने शिल्प का प्रदर्शन एवं विक्रय करेगें। इस समारोह में ट्राईफेड के ट्राईबस इण्डिया द्वारा भी लगभग 10 स्टाॅलस लगाए जाएगे। जिनमें राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों के नायाब शिल्प नमूनों को प्रदर्शन एवं विक्रय किया जाएगा ।

कार्यक्रम के तहत 15 जून को अपरान्ह 3 बजे एक संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा जिसका विषय  ‘‘आधुनिक समय में आदिम संस्कृति का महत्व तथा इसे कैसे जीविका से जोड़ा जा सकता है“।  सेमीनार का बीज भाषण पद्मश्री चन्द्र प्रकाश देवल करेेगे। अन्य वक्ताओं में हरिराम मीणा, डाॅ. मालीनी काले, विलास जानवे एवं भगवान कच्छावा संबोधित करेंगे। 16 जून को रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के साथ समारोह का समापन होगा। उन्होने यह भी बताया कि इस तीन दिवसीय समारोह में लगभग 400 कलाकार, शिल्पी, गुणीजन और विद्वान भाग लेंगे। समारोह के दौरान आमजन का प्रवेश निःशुल्क रहेगा।

टीएडी राज्यमंत्री श्री बामनिया 14 को उदयपुर में

उदयपुर, 12 जून/जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के राज्यमंत्री अर्जुनसिंह बामनिया 14 जून की सुबह 5.30 बजे रेल से उदयपुर पहुंचेंगे। वे 14 की शाम 7.30 बजे भारतीय लोककला मण्डल में “आदि महोत्सव-2019“ का शुभारंभ करेंगे। श्री बामनिया 15 जून को सुबह 10.30 बजे आयुक्तालय में टीएडी विभाग की समीक्षात्मक बैठक में भाग लेंगे तथा रविवार 16 जून की रात्रि 10 बजे रेल से जयपुर के लिए प्रस्थान कर जाएंगे। उदयपुर प्रवास के दौरान इनका रात्रि विश्राम उदयपुर में रहेगा।

पंचायतीराज संस्थाओं में उपचुनाव के लिए चुनाव कार्यक्रम की घोषणा

उदयपुर, 12 जून/राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से पचायती राज संस्थाओं में रिक्त पदों पर उपचुनाव के लिए चुनाव कार्यक्रम की घोषण कर दी गई है। कार्यक्रम के अनुसार निर्वाचन हेतु लोक सूचना 17 जून को जारी की जाएगी तथा मतदान 30 जून को होगा।

निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कार्यक्रम के अनुसार पंचायत समिति सदस्य के उपचुनाव के लिए अधिसूचना 17 जून को जारी होगी। नाम निर्देश पत्र प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 19 जून को सुबह प्रातः 11 से अपराह्न 3 बजे तक, संवीक्षा 20 को 11 बजे से, नाम वापसी की अंतिम तिथि 21 जून की अपराह्न 3 बजे तक, चुनाव चिन्हों का आवंटन 21 जून को ही अपराह्न 3 बजे बाद होगा। वहीं मतदान यदि आवश्यक हुआ तो30 जून को सुबह 7 से सायं 5 बजे तक होगा व मतगणना जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा निर्धारित स्थान पर मंगलवार 2 जुलाई को सुबह 8 बजे से होगी।

वहीं पंच व सरपंच के उपचुनाव के लिए अधिसूचना 17 जून को जारी होगी। 25 जून को सुबह प्रातः 8 से 11 बजे तक नाम निर्देश पत्रों की प्राप्ति, पूर्वाह्न 11.30 बजे से संवीक्षा तथा अभ्यार्थिता वापसी अपराह्न3 बजे तक की जा सकेगी। वहीं मतदान यदि आवश्यक हुआ तो 30 जून को सुबह 7 से सायं 5 बजे तक होगा व मतगणना मतदान समाप्ति के तुरंत पश्चात प्रारंभ होगी।

निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार उदयपुर जिले में 6 पंचायत समिति सदस्यों, 4 सरपंच एवं 12 वार्ड पंचों के रिक्त हुए पदों के लिए उपचुनाव होंगे।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के आयोजन को लेकर बैठक 14 को

उदयपुर, 12 जून/आगामी 21 जून को आयोजित होने वाले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के सफल क्रियान्वयन एवं तैयारियों को लेकर बैठक 14 जून को मध्याह्न 12 बजे जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित होगी।

कोंचिग राशि के पुनर्भरण हेतु आॅनलाइन आवेदन पत्र 31 जुलाई तक आमंत्रित

उदयपुर, 12 जून/टीआरआई की ओर से शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए राज्य के अनुसूचित क्षेत्र माडा व बिखरी जनजाति आबादी के जनजाति विद्यार्थियों को तकनीकी (मेडिकल व इंजिनियरिंग) सेवाओं में प्रवेश हेतु प्रतिष्ठित संस्थाओं के माध्यम से नीट-जेईई परीक्षा पूर्व कोंचिग राशि के पुनर्भरण हेतु आॅनलाइन आवेदन पत्र 31 जुलाई तक आमंत्रित किये गये है।

टीआरआई निदेशक दिनेश चन्द्र जैन ने बताया कि आवेदन के लिए विद्यार्थी विभागीय वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाॅट टीएडी डाॅट राजस्थान डाॅट जीओवी डाॅट इन के होम पेज पर आॅनलाइन पोर्टल फोर टीएडी एज्युकेशनल इन्सेन्टिव स्कीम्स 2019-20 के लिंक पर किए जा सकते हंै। उन्होंने बताया कि कोटा, उदयपुर, जयपुर तथा सीकर स्थित चयनित संस्थाओं में निःशुल्क परीक्षा पूर्व कोचिंग फीस के पुनर्भरण के लिए आॅनलाइन आवेदन पत्र आमंत्रित किये गये है। इसकी विस्तृत जानकारी विभागीय वेबसाइट पर उपलब्ध है।

प्रवेशित छात्रों की सूची 27 जून को होगी प्रकाशित

उदयपुर, 12 जून/राजकीय मीरा कन्या महाविद्यालय, उदयपुर में सत्र 2019-20 के लिए स्नात्तकोतर उत्तरार्द्ध में प्रवेश नवनीकरण की प्रक्रिया 11 जून से प्रारंभ हो गई है। वांछित प्रमाण पत्र महाविद्यालय में प्रस्तुत करने की अवधि 20 जून 2019 तक है तथा ई-मित्र पर प्रवेश शुल्क जमा करवाने की अंतिम तिथि 26 जून निर्धारित की गई। प्रवेशित छात्रों की सूची 27 जून को प्रकाशित होगी।

महाविद्यालय प्राचार्य ने बताया कि स्नात्तकोतर उत्तरार्द्ध में प्रवेश के दौरान फीस में छूट की इच्छुक सामान्य वर्ग की छात्राओं को आय प्रमाण-पत्र व ओबीसी, एमबीसी वर्ग की छात्राओं को नॉन-क्रीमी लेयर का प्रमाण-पत्र महाविद्यालय में 20 जून तक प्रस्तुत करना होगा। यदि निर्धारित अवधि में छात्रा महाविधालय में वांछित प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं करती है तो उसे सामान्य आयकर दाता की श्रेणी का शुल्क जमा कराना होगा। विश्वविद्यालय परीक्षा परिणाम में अनुत्तीर्ण घोषित होने पर पर छात्रा का अस्थायी प्रवेश निरस्त कर प्रवेश शुल्क लौटाया जाएगा। महाविद्यालय में स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर की समस्त कक्षाएं 1 जुलाई से प्रारम्भ हो जाएगी।

वीसी के माध्यम से लाईट्स साॅफ्टवेयर का प्रशिक्षण 14 जून को

उदयपुर, 12 जून/ लाईट्स साॅफ्टवेयर की कार्यप्रणाली के संबंध में वीडियो काॅन्फ्रेंस के माध्यम से प्रशिक्षण कार्यक्रम 14 जून को सुबह 11 बजे आयोजित होगा। इसमें संबंधित जिले के लाईट्स मास्टर ट्रेनर,अधिकारी, कर्मचारी भाग लेंगे।

लाइट्स के नोडल अधिकारी एवं अतिरिक्त जिला कलक्टर ने सभी जिला स्तरीय नोडल अधिकारियों को निर्देश दिये है कि वे संबंधित लाईट्स मास्टर ट्रेनर्स, अधिकारी, कर्मचारी को निर्धारित तिथि व समय पर प्रशिक्षण में भाग लेने हेतु पाबंद करें।

भेड निष्क्रमण एवं नियमन वर्ष 2019 संबंधी बैठक 19 को

उदयपुर, 12 जून/भेड निष्क्रमण एवं नियमन वर्ष 2019 के संबंध में बैठक 19 जून को सुबह 11 बजे संभागीय आयुक्त भवानी सिंह देथा की अध्यक्षता में आयुक्तालय सभागार में आयोजित होगी। यह जानकारी अतिरिक्त संभागीय आयुक्त एल.एन.मंत्री ने दी।

जिला स्तरीय जनसुनवाई: 18 प्रकरण प्राप्त, 7 निस्तारित आमजन की समस्याओं का हो त्वरित निस्तारण: कलक्टर

News

उदयपुर, 13 जून/आमजन की समस्याओं के त्वरित निस्तारण एवं उन्हें तुरंत राहत प्रदान करने के लिए जून माह के दूसरे गुरुवार को जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट परिसर स्थित आईटी केन्द्र में आयोजित जनसुनवाई के दौरान 18 अलग-अलग प्रकरण प्राप्त हुए, जिनमें 7 प्रकरणों का मौके पर ही निस्तारण किया गया। अन्य प्रकरणों के संबंध में कलक्टर ने संबंधित विभागीय अधिकारियों को त्वरित कार्यवाही करते हुए लोगों को राहत प्रदान करने के निर्देश दिए।

जनसुनवाई के दौरान बिजली, पानी, अतिक्रमण, नामांतरण, अवैध पार्किंग, सड़क निर्माण, भू-रुपान्तरण आदि के प्रकरण प्राप्त हुए। कलक्टर ने संबंधित विभागीय अधिकारियों से कहा कि जनसुनवाई एवं बैठक का उद्देश्य आमजन की शिकायतों का शीघ्र निस्तारण करना है। उन्होंने कहा कि लोक सेवा अधिनियम के तहत निर्धारित समयावधि के भीतर आमजन को सेवा प्रदान करने सुनिश्चित करें।

कलक्टर ने राजस्थान सम्पर्क पोर्टल व सीएम हेल्पलाइन 181 एवं अन्य शिकायत संबंधी पोर्टल पर दर्ज प्रकरणों के संबंध में समीक्षा की एवं इन्हे प्राथमिकता के साथ निस्तारित करने के निर्देश दिये। उन्होंने इस बात पर विशेष जोर दिया कि करीब छः माह से पुराने प्रकरण किसी भी सूरत में लम्बित नहीं रहे।

कलक्टर ने समस्त उपखण्ड अधिकारियों से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए जनसमस्या एवं शिकायत से जुड़े लम्बित प्रकरणों पर चर्चा की एवं उन्हें अपने स्तर से निपटाते हुए वस्तुस्थिति से अवगत कराने के निर्देश भी दिए।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) संजय कुमार, सहायक निदेशक (लोकसेवाएं) दीपक मेहता सहित अन्य सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

जनजाति लोककला व संस्कृति की झलक दिखेगी ‘‘आदि महोत्सव’’में टीएडी राज्यमंत्री शुक्रवार को करेंगे शुभारंभ

News

उदयपुर, 13 जून/जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग, टीआरआई और  भारतीय लोक कला मण्डल, उदयपुर के सयंुक्त तत्वावधान में आदि महोत्सव का शुभांरभ 14 जून को सायं 7.30 बजे होगा। इसममें जनजाति लोककला व संस्कृति की अनूठी झलक देखने को मिलेगी।

जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के आयुक्त भवानी सिंह देथा ने बताया कि ‘कार्यक्रम का शुभारंभ राजस्थान सरकार के जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री अर्जुन सिंह बामनिाया के मुख्य आतिथ्य में होगा। विशिष्ट अतिथि ट्राईफेड के प्रबंध निदेशक प्रवीर कृष्णा (आईएएस) व ट्राईफेड चेयरमेन आर.सी. मीणा. होंगे।

उन्होने बताया कि तीन दिवसीय जनजाति उत्सव के तहत आयोजित हो रहे आदि महोत्सव के तहत गुरुवार को समारोह में भाग ले रहे राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों के जनजाति कलाकरों ने अपना पंजीयन कराया, जो इस तीन दिवसीय समारोह में प्रतिदिन अपनी सांस्कृतिक प्रस्तुतियाॅ देगें। जिसमें बांसवाडा के भील जनजाति द्वारा गैर व डांगरी नृत्य, तथा घूमरा नृत्य, उपलागढ़ सिरोही के गरासिया जनजाति द्वारा वालर, रायण नृत्य, झाडोल, उदयपुर के कथोड़ी जनजाति के द्वारा मालविया नृत्य, शाहबाद, बांरा के सहरिया जनजाति के द्वारा स्वांग नृत्य, बाड़मेर के भील जनजाति के कलाकारों द्धारा पाबूजी की फढ़ बाचन, पीपलखूंट, प्रतापगढ़ के भील जनजाति द्वारा कच्ची घोड़ी नृत्य, थूर उदयपुर के भील जनजाति द्वारा गवरी नृत्य, ऋृषभदेव, उदयपुर के मीणा जनजाति के कलाकरों द्वारा लाखा बंजारा नृत्य, डूगंरपुर के भील जनजाति द्वारा भजन तथा करौली के मीणा जनजाति द्वारा लोक गीत प्रमुख होगें।

शिल्पकार व गुणीजन भी करेंगे शिरकत

उन्होने यह भी बताया कि राजस्थान की जनजाति कला के कलाकारों को प्रोत्साहित करने, उन्हे उचित प्रकार से मंच प्रदान करने तथा उनकी कला, शिल्प को प्रचारित करने तथा जन- जन तक पहुचाॅने के उद्धेश्य से आयोजित इस समारोह में राजस्थान के लगभग 40 शिल्पकार, गुणीजन जो अपने जड़ी- बूटी के ज्ञान से लोगों को परिचित कराएगें तथा राजस्थान कि वन सम्पदा में उपलब्ध जड़ी- बूटियों से किस प्रकार, किस -किस बीमारियों का इलाज हो सकता है, बताएगें। साथ ही शिल्पकार अपने शिल्प का प्रदर्शन एवं विक्रय करेगें। ट्राईफेड के ट्राईबस इण्डिया द्वारा भी लगभग 10 स्टाॅलस लगाए जाएगे। जिनमें राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों के नायाब शिल्प नमूनों को प्रदर्शन एवं विक्रय किया जाएगा। टीआरआई और लोक कला मण्डल भी अपने प्रकाशनों की प्रदर्शनी लगायेंगें।

कार्यक्रम के तहत 15 जून को अपरान्ह 3 बजे एक संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा जिसका विषय  ‘‘आधुनिक समय में आदिम संस्कृति का महत्व तथा इसे कैसे जीविका से जोड़ा जा सकता है’’।  सेमिनार का बीज भाषण पद्मश्री चन्द्र प्रकाश देवल करेगें। अन्य वक्ताओं में जयपुर से हरिराम मीणा, बांसवाड़ा से डाॅ. मालीन काले,  व उदयपुर से विलास जानवे एवं भगवान कच्छावा होगें ।

जनजाति प्रतिभा खोज प्रतियोगिता का आयोजन 16 जून को प्रातः 10 बजे से होगा जिसका पंजीयन दिनांक 14 व 15 जून को दोपहर 12 बजे तक भारतीय लोक कला मण्डल में किया जाएगा।

अतिरिक्त आयुक्त ने देखी तैयारियां

महोत्सव से पूर्व गुरुवार को विभाग की अतिरिक्त आयुक्त अजंली राजौरिया ने भारतीय लोक कला मण्डल में महोत्वस को लेकर की जा रही तैयारियों का जायजा लिया। समारोह में भाग ले रहे कलाकारों ने बड़े ही उत्साह से रिहर्सल की। उन्होने बताया कि इस तीन दिवसीय समारोह में लगभग 400 कलाकार, शिल्पी, गुणीजन और विद्वान भाग लेंगे। कार्यक्रम के दौरान आमजन का प्रवेश निःशुल्क रहेगा।

पंचायती राज उपचुनाव 2019

6 पंचायत समिति सदस्य, 4 सरपंच व 12 वार्डपंच के रिक्त पदों के लिए होंगे उपचुनाव

उदयपुर, 13 जून/राज्य निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशानुसार पंचायती राज संस्थाओं में 31 मार्च 2019 तक रिक्त हुए पदों के लिए उप चुनाव का कार्यक्रम घोषित कर दिया गया है।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी नरेश बुनकर ने बताया कि जिले की पंचायती राज संस्थाओं में रिक्त हुए 6 पंचायत समिति सदस्य, 4 सरपंच एवं 12 वार्डपंचों के पदों के लिए उपचुनाव होंगे। जिसके तहत सराडा पंचायत समिति में पंचायत समिति सदस्य संख्या 22 (अजजा महिला), पंचायत समिति सदस्य संख्या 13 (सामान्य महिला) व गातोड ग्राम पंचायत में वार्ड पंच संख्या 8 (अजजा), सेमारी पंचायत समिति में पंचायत समिति सदस्य संख्या 8 (अजजा महिला), ग्राम पंचायत कुण्डा में सरपंच (अजजा) व सल्लाड़ा ग्राम पंचायत के वार्डपंच संख्या 2 (अजा), सलूम्बर पंचायत समिति में पंचायत समिति सदस्य संख्या 15 (अपिव), झल्लारा पंचायत के ग्राम पंचायत आमलवा में वार्डपंच संख्या 02 (अजजा महिला) तथा खेरवाड़ा पंचायत समिति में पंचायत समिति सदस्य संख्या 16 (सामान्य महिला) के रिक्त पदों पर उपचुनाव होगा।

वहीं झाडोल पंचायत समिति में पंचायत समिति सदस्य संख्या 5 (अजजा महिला), माणस ग्राम पंचायत में सरपंच (अजजा) व ब्राह्मणों का खेरवाड़ा ग्राम पंचायत में वार्डपंच संख्या 6 (अजजा), फलासिया के ग्राम पंचायत नेवज में वार्डपंच संख्या 3 (अपिव), गिर्वा के ग्राम पंचायत डाकन कोटड़ा में सरपंच (अजजा महिला), कुराबड के ग्राम पंचायत पंचायत भल्लो का गुड़ा में सरपंच (अजजा), फिला में वार्डपंच संख्या 4 (अजजा), साकरोदा में वार्डपंच संख्या 7 (सामान्य), गोगुंदा पंचायत समिति के ग्राम पंचायत मादा में वार्डपंच संख्या 1 (अपिव) व ग्राम पंचायत झाडोली में वार्डपंच संख्या 8, ऋषभदेव पंचायत समिति की किकावत ग्राम पंचायत में वार्डपंच संख्या 7 (अजजा महिला), बड़गांव के लोसिंग ग्राम पंचायत में वार्डपंच संख्या 2 (सामान्य महिला) व भींडर पंचायत समिति की ग्राम पंचायत धावडिया में वार्डपंच संख्या 10 (अजजा महिला) के लिए उपचुनाव होंगे।

आरओ-एआरओ नियुक्त

जिला निर्वाचन अधिकारी श्रीेमती आनंदी ने एक आदेश जारी कर जिले की विभिन्न पंचायत समितियों में उपचुनाव सम्पादित करवाने के लिए पंचायत समितिवार रिटर्निंग व सहायक रिटर्निंग अधिकारी नियुक्त किये गये है। आदेशानुसार सराड़ा, सेमारी, खेरवाड़ा, झाड़ोल व सलुम्बर के उपखण्ड अधिकारी को रिटर्निंग अधिकारी व संबंधित तहसीलदार को सहायक रिटर्निंग अधिकारी नियुक्त किया गया है।

बैंक संबंधी जिला स्तरीय समीक्षा समिति की बैठक 14 को

उदयपुर, 13 जून/बैंक संबंधी जिला स्तरीय समीक्षा समिति की बैठक 14 जून को प्रातः 11 बजे जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी की अध्यक्षता में जिला कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित होगी। मार्गदर्शी बैंक के मुख्य प्रबंधक ने बताया कि बैठक में वार्षिक साख योजना, साख जमा अनुपात, सरकारी योजनाओं के लक्ष्य का वितरण, उपलब्धि तथा बीसी के कार्यकलाप पर चर्चा की जायेगी।

52 यूनिट रक्तदान हुआ

News


उदयपुर, 16 जून। राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड स्थानीय संघ बड़गांव द्वारा आयोजित रक्तदान शिविर शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भुवाणा पर संपन्न हुआर। शिविर में 52 यूनिट रक्तदान हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि स्थानीय संघ के उप प्रधान श्री राधेश्याम सिखवाल थे।  विशिष्ट अतिथि सीओ स्काउट श्री छैल बिहारी शर्मा, सहायक जिला कमिश्नर श्रीमती वंदना गुरुंडिया, डॉ अनिल जैन, डॉ अर्णव देवनाथ, डॉ भागचंद, दिलकुश गोयल थे। 
इस अवसर पर श्री कृष्ण कांत पुरोहित, सेमुअल फ्रांसिस, राजेश तिवारी, सुनील कुमार जोशी, शैलेश चंद्र दास, लोकेश प्रजापत, अर्जुन गमेती आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्री सुरेश कुमार प्रजापत रोवल लीडर एवं श्री किशन लाल सालवी ने किया। श्री सुरेश कुमार प्रजापत ने तेईसवीं बार रक्तदान किया। प्रजापत के साथ महिलाओं ने भी रक्तदान किया। महाराणा भोपाल चिकित्सालय के ब्लड बैंक की टीम के सहयोग से रक्तदान शिविर संपन्न हुआ। श्री किशन प्रजापत, राजकीय उच्च विद्यालय सीनियर सेकेंडरी स्कूल बड़गांव, जयदीप सीनियर सेकेंडरी स्कूल के स्काउट, उदय रोवर ओपन क्रू रोवर्स ने पूर्ण मनोयोग से सेवा दी।

आदि महोत्सव के अंतिम दिन प्रतिभा खोज प्रतियोगिताएं आयोजित

News


उदयपुर, 16 जून। जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग, माणिक्यलाल वर्मा आदिम जाति शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान (टीआरआई) उदयपुर एवं लोक कला मंडल के संयुक्त तत्वावधान में दिनांक 14 से 16 तक आदि महोत्सव 2019 का आयोजन किया गया। इस आयोजन के अंतिम दिन रविवार को जनजाति शिल्पकार एकल एवं सामूहिक सांस्कृतिक प्रतिभा एवं हस्तशिल्पकारों की नवीन प्रतिभा खोज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें जनजाति के बालक व बालिकाओं ने भाग लिया। 
जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग द्वारा संचालित राजकीय जनजाति आश्रम छात्रावासों, आवासीय विद्यालयों के करीब 140 छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दीं। उदयपुर जिले के छात्र-छात्राओं ने धुलिया - माताजी नार, लसाड़िया व कालीभीत के बालकों ने गैर डांस तथा छाली, चित्रावास एवं पानरवा की छात्राओं ने गैर डांस की प्रस्तुतियां दी।
डूंगरपुर जिले कि जनजाति मॉडल स्कूल, सुरपुर के बालकों ने मावजीमहाराज भजन, सागवाड़ा एवं फलौज जनजाति आवासीय छात्रावास की छात्राओं ने ग्रुप डान्स ढोल बाजे रे पर  डान्स प्रस्तुत किया। 
जनजाति उच्च माध्यमिक विद्यालय, प्रतापगढ के छात्रों ने डांगडी व गैर नृत्य तथा एकलव्य मॉडल आवासीय स्कूल, टिमरवा की छात्राओं ने डांगड़ी नृत्य प्रस्तुत किये। 
बांसवाड़ा जिले के एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, सुन्द्राव एवं पाडोला ने छात्रों ने लोक नृत्य व भजन की प्रस्तुतियां दी। 
उक्त सभी बालकों ने अपनी पारम्परिक सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। साथ ही करौली जिले के मीणा जनजाति कलाकारों द्वारा दंगल, बारां के शाहबाद के सहरिया कलाकारों का स्वांग नृत्य, सिरोही के उपलागढ के गरासिया कलाकारों का वालर नृत्य एवं उदयपुर से थूर गांव के गवरी कलाकार द्वारा देवी अम्बाव नृत्य नाटिका की प्रस्तुति दी गयी। 
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अतिरिक्त आयुक्त टीएडी श्रीमती अंजली राजौरिया, जिलाधीश श्रीमती आनन्दी, पुलिस अधीक्षक, उदयपुर उपस्थित थे ।
उक्त आदि महोत्सव के आयोजन के दौरान आदि शिल्प हाट, जड़ी बूटियों से उपचार एवं भित्ति चित्रण प्रदर्शनी का आयोजन भी किया गया जिसे पर्यटक एवं स्थानीय दर्शकों ने भूरी-भूरी प्रशंसा की। 

सोमवार समीक्षा बैठक आमजन की सुविधा हेतु विभागों का आपसी तालमेल जरूरी-कलक्टर

News

उदयपुर, 17 जून/जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी ने कहा कि आमजन को सुविधा प्रदान करने एवं उन्हें त्वरित राहत प्रदान करने हेतु विभागों का आपसी तालमेल जरूरी है। उन्होंने कहा कि पेयजल आपूर्ति के समय बिजली कटौती न हो, इस हेतु दोनों विभाग के फील्ड अधिकारी आपस में समन्वय बनाकर कार्य करे। कलक्टर सोमवार को कलेेक्ट्रेट सभागार में आयोजित विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रही थीं।

बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) संजय कुमार, जिला परिषद के एसीईओ मेघराज मीणा, सहायक निदेशक (लोक सेवाएं) दीपक मेहता सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

विभागवार कार्यों की समीक्षा करते हुए जिला कलक्टर ने कहा कि जिन-जिन विभागों के हैण्डपम्प जलदाय विभाग ने दुरुस्त किये है वे अपने स्तर पर उनका सत्यापन करवाना सुनिश्चित करें ताकि कोई भी हैण्डपम्प खराब न छूटे। विशेषकर महिला एवं बाल विकास विभाग के हैण्डपम्प के संबंध में सीडीपीओ, जलदाय विभाग के जेईएन एवं संबंधित राजस्व निरीक्षक की टीम द्वारा सत्यापन के निर्देश उन्होंने दिये।

जिला कलक्टर ने जिले में चिकित्सालयों में राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी के पुनर्गठन एवं नियमित बैठक करना सुनिश्चित करने के निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिए। शहरी क्षेत्र में राजश्री योजना के कार्य में तेजी लाने, दिव्यांग प्रमाण पत्र बनाने एवं मौसमी बीमारियों को लेकर आवश्यक उपाय सुनिश्चित करने को भी कहा।

सामाजिक पेंशन के आवेदन आॅफलाइन न लेकर ई-मित्र के माध्यम से लेना ही सुनिश्चित करने के निर्देश कलक्टर ने दिये। इस संबंध में सभी तहसीलदारों को यह जानकारी देने हेतु सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया। छात्रवृत्ति एवं अन्य लाभकारी योजना के आवेदन भरवाने में एनजीओ की सहायता लेने पर भी विचार किया गया।

कलक्टर ने जिले में पेयजल आपूर्ति, आवश्यकतानुसार बिजली सप्लाई के साथ मानसून पूर्व सभी तैयारियां सुनिश्चित करने के निर्देश भी संबंधित विभागों को दिए। कलक्टर ने कहा कि जनकल्याण के कार्यों को प्राथमिकता से पूरा करते हुए आमजन से जुड़ी शिकायतों का त्वरित निस्तारण करना सुनिश्चित करें। सम्पर्क पोर्टल, एक्शन उदयपुर, हेल्पलाइन या किसी अन्य माध्यम से प्राप्त किसी भी शिकायत को लम्बित न रखें।

आधार प्रशिक्षण कार्यशाला

News

उदयपुर, 17 जून/उदयपुर संभाग मंे कार्यरत आधार आपॅरेटर द्वारा आधार नामांकन/अद्यतन के दौरान की जाने वाली त्रुटियों में कमी एवं परफोर्मेंस में सुधार हेतु संभाग स्तरीय आधार प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन सोमवार को पंचायत समिति गिर्वा सभागार में सूचना प्रौ़द्योगिकी एवं संचार विभाग की एसीपी सुश्री शीतल अग्रवाल की अध्यक्षता में हुआ। कार्यशाला में यू.आई.डी.ए.आई. दिल्ली के प्रतिनिधि एप्लीकेशन एनालिस्ट दिलीप कुमार, स्टेट रिसोर्स पर्सन जयप्रकाश गुप्ता एवं प्रोग्रामर पंचायत समिति गिर्वा पूजा साहू एवं विभाग के अन्य अधिकारी/कार्मिक उपस्थित रहे।

सुश्री अग्रवाल ने प्रारम्भ में आधार नामांकन कार्य सरकारी परिसर में बैठकर नियमनानुसार कार्य करने हेतु निर्देश प्रदान किये गये। इसके उपरान्त आपॅरेटर्स को यू.आई.डी.ए.आई. दिल्ली के प्रतिनिधियों द्वारा विस्तार पूर्वक प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में मुख्य रूप से आधार नामांकन एवं अद्यतन के कार्य करने की सही प्रक्रिया, आधार नामांकन एवं अद्यतन के निरस्त होने के मुख्य कारण, आधार आॅपरेटर व सुपरवाइजर बनने की प्रक्रिया, आधार वेरीफायर की भूमिका, आधार पब्लिक पोर्टल की जानकारी, आधार आॅपरेटर की आई.डी. ब्लेक लिस्ट होने के मुख्य कारण व. आधार आॅपरेटर द्वारा की जाने वाली त्रुटियों पर आरोपित की जाने वाली शास्ति का विवरण आदि बिन्दुओं पर चर्चा की गई। इस प्रशिक्षण कार्यशाला में उदयपुर संभाग में कार्यरत लगभग 250 आधार आपॅरेटरर्स ने भाग लिया। अंत में प्रोग्रामर पूजा साहू ने सभी का आभार जताया।

आरसीडीएफ एमडी का उदयपुर डेयरी दौरा

News

उदयपुर, 17 जून/राजस्थान को-आपरेटिव डेयरी फेडरेशन लि. जयपुर की प्रबंध निदेशक डाॅ. वीना प्रधान (आईएएस) ने सोमवार को उदयपुर सरस डेयरी का दौरा किया। उदयपुर डेयरी के दौरे से पूर्व डाॅ. प्रधान ने उदयपुर दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लि. की प्राथमिक दुग्ध उत्पादक सहकारी समिति डांगीखेड़ा का भी निरीक्षण किया। समिति के दौरे के दौरान उन्होनें समिति पर दुग्ध संकलन एवं समिति की क्रियाकलापों की जानकारी ली एवं समिति सदस्यों से भी बातचीत की। उन्होनंे समिति पर दूध देने वाले दुग्ध उत्पादकों से स्वच्छ दुग्ध उत्पादन पर जोर दिया एवं समिति के माध्यम से सदस्यों को मिलने वाली सभी तकनीकी आदान सुविधायें, सभी सामाजिक सुरक्षा योजनाओं एवं मुख्यमंत्री दुग्ध उत्पादक संबल योजना आदि का लाभ उठाने का आग्रह किया।

 

तत्पश्चात प्रबंध संचालक ने दुग्ध संघ के मुख्य डेयरी संयंत्र एवं सभी अनुभागों का दौरा किया। दुग्ध संघ के निरीक्षण के दौरान डेयरी अध्यक्ष डाॅ. गीता पटेल ने उनका स्वागत किया एवं राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के माध्यम से विश्व बैंक के आर्थिक सहयोग से राष्ट्रीय डेयरी योजना के अंतर्गत उदयपुर डेयरी मे चल रही परियोजनाओं की जानकारी दी। साथ ही उन्होनें संघ द्वारा हाल ही मे शुरू किये गये बकरी दूध के संकलन एवं विपणन की प्रगति से अगवत कराया। संघ के प्र्रबंध संचालक उमेश गर्ग ने दुग्ध संघ मे संचालित योजनाओं एवं संघ के कार्यकलापों की प्रगति से अवगत कराया। इस विजिट के लिए प्रबंध संचालक का आभार जताया।

भेड़ निष्क्रमण को लेकर संभाग के सभी जिलों के अधिकारियों की बैठक

News

उदयपुर, 19 जून/मानसून काल में मध्य प्रदेश से मारवाड़ की ओर जाने वाली भेड़ों के सुरक्षित निष्क्रमण को लेकर संभाग के सभी जिलों के बीच आपसी समन्वय बनाने हेतु बुधवार को संभागीय आयुक्त कार्यालय में बैठक आयोजित की गई। बैठक में अतिरिक्त संभागीय आयुक्त एन एल मंत्री, पुलिस महानिरीक्षक प्रफुल्ल कुमार एवं पशुपालन विभाग के अतिरिक्त निदेशक लाल सिंह ने सभी जिलों के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को सूचनाओं के समय पर आदान-प्रदान करने एवं अन्य समुचित व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए।

बैठक में इस बात पर विशेष जोर दिया गया कि भेड़ों का निष्क्रमण निर्धारित रूट के अनुसार हो, वे अपने तय स्थान पर ही ठहराव करें एवं वर्जित क्षेत्र में प्रवेश ना करें। विशेषकर वन विभाग द्वारा नए पौधारोपण किए गए क्षेत्र में ना घुसे। वन विभाग के अधिकारियों को ऐसे क्षेत्रों की सूची बनाकर भेड़पालकों को सौंपने को कहा गया ताकि वे सावधानी बरत सकें। निष्क्रमण के रास्ते पर स्थापित स्थाई एवं अस्थाई चेक पोस्टों पर अनुभवी कार्मिकों की नियुक्ति करने, पर्याप्त संख्या में होमगार्ड लगाने, भेड़ पालक एवं उनके परिवारों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने, साक्षरता के तहत उन्हें साक्षर करने, निष्क्रमण अवधि में कानून व्यवस्था बनाए रखने, भेड़ बालकों को उचित मूल्य दुकानों से राशन उपलब्ध कराने सहित कई बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए।

बैठक के दौरान पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि प्रत्येक जिले में भेड़ पालक का प्रवेश होते समय आईडी कार्ड चेक किया जाए एवं उस जिले से निकलते समय भी उसकी जांच की जाए। इस कदम से मानव तस्करी की किसी भी संभावनाओं को रोका जा सकेगा। यह सुनिश्चित किया जाए की भेड़ पालक जितने परिजनों के साथ जिले में एंट्री कर रहा है उतने ही परिजनों के साथ वह बाहर निकले।

झरबरी झाड़ी से बचें

चित्तौड़गढ़ के रावतभाटा में पिछले वर्ष जहरीली झरबरी झाड़ी की पत्तियां खाने से 140 भेड़ों की मौत हो गई थी। अधिकारियों ने भेड़ बालकों के प्रतिनिधि होतीराम से आग्रह किया कि वे सभी भेड़ पालकों को उस झाड़ी से बचने की सलाह दें। साथ ही गंगरार में करंट से एक साथ सात ऊंटों की मौत के मामले का हवाला देते हुए बारिश के दौरान विशेष सावधानी बरतने को कहा गया।

संभाग में संवेदनशील स्थान सबसे ज्यादा चित्तौड़गढ़ में

भ्रमण के दौरान संभाग में स्थानीय व्यक्तियों एवं भेड़ पालकों के बीच टकराव की खबरें आती रहती हैं। ऐसे संवेदनशील स्थल चित्तौड़गढ़ जिले में सर्वाधिक 12 है प्रतापगढ़ जिले में दो एवं उदयपुर जिले में एकमात्र झामरी वन क्षेत्र में है। बैठक में उपस्थित अतिरिक्त जिला कलेक्टर शहर संजय कुमार ने कहा की कानून व्यवस्था की पालना सुनिश्चित करने एवं स्थानीय लोगों के साथ टकराव को टालने कि समुचित प्रबंध किए गए हैं।

निचले क्षेत्रों में ने करें ठहराव

बैठक के दौरान भेड़ पालकों के प्रतिनिधि को यह निर्देश दिए गए कि वे सभी भेड़ पालकों को इस बात के लिए सूचित करें कि वह निचले क्षेत्रों में अपनी भेड़ों का ठहराव न करें। अन्यथा अचानक तेज बारिश की स्थिति में भेड़ों को निकालना मुश्किल हो सकता है एवं उन्हें नुकसान उठाना पड़ सकता है। भेड़पालक प्रतिनिधि होतीराम ने भी अपनी समस्याओं से अवगत कराया जिनके समाधान का अधिकारियों ने उचित आश्वासन दिया। सभी भेड़ पालकों के आधार कार्ड बनाए जाने की अपेक्षा से भी भेड़ पालक प्रतिनिधि को अवगत कराया गया।

जमकर बरसे मेघ, जयसमंद में सर्वाधिक 136 मिमी वर्षा दर्ज

उदयपुर, 19 जून/जिले में जारी प्री-मानसून के तहत मंगलवार देर रात तक मेघ बरसते रहे और बुधवार की अलसुबह बरसात का यह दौर जारी रहा। बुधवार सुबह 8.30 बजे बीते चैबीस घण्टों के दौरान सर्वाधिक136 मिमी वर्षा जयसमंद जलाशय पर दर्ज हुई। जल संसाधन के बाढ़ नियंत्रण कक्ष की सूचनानुसार आलोच्य अवधि में सई डेम पर 36, उदयपुर 72, सलुम्बर 92, स्वरूपसागर व नाई 48-48, उदयसागर व सेमारी 110-110,वल्लभनगर 91, बागोलिया 70, गोगुन्दा व कोटड़ा 74-74, केजड़ व ऋषभदेव 80-80, ओगणा 44, देवास 22, डाया सोमपिकअप व झाड़ोल 55-55, सोमकागदर 64, मदार 33, खेरवाड़ा 40 व बावलवाड़ा जलाशय पर 50 मिमी वर्षा दर्ज हुई।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019

सलुम्बर राउमावि में मनेगा उपखण्ड स्तरीय समारोह

उदयपुर, 19 जून/आगामी 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 के उपलक्ष्य में जिला स्तरीय आयोजन के साथ जिले के विभिन्न उपखण्ड क्षेत्रों में भी योग दिवस समारोह पूर्वक मनाया जाएगा। सलुम्बर के उपखण्ड अधिकारी प्रकाशचन्द्र रेगर ने बताया कि योग दिवस का उपखण्ड स्तरीय समारोह 21 राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सलुम्बर के प्रांगण में सुबह 6 से 8 बजे तक आयोजित होगा। इसके लिए उन्होंने सभी उपखण्ड स्तरीय अधिकारी-कर्मचारियों को कार्यक्रम में अनिर्वातः उपस्थित रहने के निर्देश दिये है। साथ ही स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं आमजन को अधिक से अधिक संख्या में भागीदारी निभाने का आह्वान किया है।

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में आमलिया में जागरूकता कार्यक्रम

उदयपुर, 19 जून/भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की मीडिया इकाई क्षेत्रीय लोक सम्पर्क ब्यूरो, उदयपुर द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में जिले की फलासियां पंचायत समिति की आमलिया पंचायत में विशेष जागरूकता कार्यक्रम बुधवार  को स्थानीय विधायक बाबुलाल खराडी के मुख्य आतिथ्य में हुआ। उन्होंने जीवन में स्वस्थ एवं रोगमुक्त रहने के लिए योग को महत्वपूर्ण बताया।

आयुर्वेद विभाग फलासिया  के नोडल अधिकारी डाॅ.राकेश कुमार मीणा ने योग के महत्व पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर पंतजलि संस्थान के योग गुरू गुलाबनाथ महाराज, शारीरिक शिक्षक गजेन्द्र कलाल,रमेश चन्द्र दरागी ने योगाभ्यास करवाया। क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी रामेश्वर लाल मीणा ने कार्यक्रम के उद्देश्य, विभागीय गतिविधियों तथा केन्द्र सरकार की योजनाओं के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी।

सहकारिता मंत्री 21 को राजसमंद-उदयपुर दौरे पर

उदयपुर, 19 जून/प्रदेश के सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना 21 जून को राजसमंद-उदयपुर दौरे पर रहेंगे। वे सुबह 10 बजे राजसमंद पहुंचेंगे तथा वहां महात्मा गांधी के जीवन पर आधारित स्वच्छता प्रदर्शनी में भाग लेंगे। वे वहां दोपहर 2.30 बजे सहकारिता विभाग के उदयपुर जोन के अधिकारियों की बैठक लेंगे तथा सायं 7 बजे उदयपुर पहुंचेंगे। श्री आंजना 22 जून की सुबह 10 बजे डूंगरपुर के लिए प्रस्थान कर जाएंगे।

माध्यमिक विद्यालय रेजीडेंसी में आयोजित होगी।

जिला शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक) भरत कुमार जोशी ने बताया कि काउंसलिंग के लिए बुलाए गये कार्मिकों की सूची एवं रिक्तियों की सूचना विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध कराई जाएगी। सूची में चयनित शिक्षक को प्रातः 9 से 10 बजे तक रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा। संबंधित आशार्थी अपनी मूल आईडी एवं आवश्यक दस्तावेजों के साथ उपस्थिति सुनिश्चित करें। नियत समय पश्चात आने वाले कार्मिकों को वरियता का लाभ देय नहीं होगा।