News

जिला निर्वाचन अधिकारी ने की वीडियो काॅन्फ्रेंस

जिले भर में चुनाव ड्यूटी पर लगे अघिकारियों को दिए निर्देश

उदयपुर, 11 नवंबर/जिले में विधानसभा चुनाव सुगमता एवं सफलतापूर्वक सम्पादित करवाने को लेकर जिला निर्वाचन अधिकारी बिष्णुचरण मल्लिक ने रविवार को वीडियों काॅन्फ्रेंस के जरिए जिले भर में चुनाव ड्यूटी में नियुक्त अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

कलेक्ट्रेट परिसर स्थित आईटी केन्द्र के वीसी सभागार से जिला निर्वाचन अधिकारी ने जिले के अधिकारियों को संबोधित किये। उन्होंने संबंधित विधानसभा क्षेत्र में ब्लाॅक मुख्यालय पर वीसी सभागार में उपस्थित अधिकारियों से अब तक की चुनावी गतिविधियों को लेकर विस्तार से चर्चा की। इस दौरान उन्होंने सोमवार से प्रारंभ हो रही नामंाकन प्रक्रिया को निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार सम्पादित करने के निर्देश दिए। साथ ही मतदान केन्द्रों पर आवश्यक सुविधाओं, निगरानी दलों की गतिविधियों, सेक्टर अधिकारियों के दायित्व एवं अन्य चुनाव संबंधी तैयारियों की समीक्षा भी की।

इस अवसर पर जिला मुख्यालय पर जिला निर्वाचन अधिकारी के साथ उप जिला निर्वाचन अधिकारी चांदमल वर्मा, रिटर्निंग अधिकारी लोकबंधु, संजय कुमार एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। सभी विधानसभाओं में संबंधित रिटर्निंग आॅफिसर्स, सहायक रिटर्निंग आॅफिसर्स एवं सेक्टर आॅफिसर्स मौजूद रहे।

विधानसभा चुनाव की नामांकन प्रक्रिया सोमवार से

संबंधित रिटर्निंग अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करेंगे आवेदन

उदयपुर, 11 नवंबर/विधानसभा चुनाव 2018 की नामांकन प्रक्रिया सोमवार 12 नवंबर से प्रांरभ हो जाएगी। नामांकन प्रक्रिया के दौरान चुनाव लड़ने वाले विभिन्न पार्टियों के प्रत्याशी नामांकन कर सकेंगे। संबंधित प्रत्याशी को नामांकन प्रक्रिया के दौरान निर्वाचन आयोग की ओर से जारी नियमों एवं शर्तो का पालन आवश्यक रुप से करना होगा।

जिला निर्वाचन अधिकारी बिष्णुचरण मल्लिक ने रविवार को जिला आईटी केन्द्र पर आयोजित वीसी के दौरान आवश्यक दिशा-निर्देश दिये है। इसके तहत संबंधित विधानसभा क्षेत्र में पब्लिक नोटिस अन्तर्गत धारा-31 आरपीएक्ट 1951 से पठित नियम 3 कण्डक्ट आॅफ इलेक्शन रुल्स 1961 के अन्तर्गत 12 नवम्बर को प्रारुप ए में नोटिस जारी करना होगा। जिसकी प्रति आरओ/एआरओ के नोटिस बोर्ड, पंचायत समिति, ग्राम पंचायत आदि स्थानों पर चस्पा कर व्यापक प्रचार प्रसार करने के निर्देश दिये ।

नाम निर्देशन, संवीक्षा विद्ड्राल व चुनाव चिन्ह आवंटन संबंधी निर्देश

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि नाम निर्देशन प्रपत्र 2 ख में लिया जायेगा। मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय एवं राज्यस्तरीय दल के प्रत्याशी के लिए एक प्रस्तावक और अन्य प्रत्याशी के लिए 10 प्रस्ताव रहेंगें। नाम निर्देशन 19 नवम्बर तक (सार्वजनिक अवकाश छोड़कर) 11 से 3 बजे तक किया जा सकेगा। प्रत्याशी अथवा प्रस्तावक द्वारा नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किया जा सकता है।

नियमानुसार एक अभ्यर्थी द्वारा अधिकतम 4 नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किये जा सकते है। नाम निर्देशन के समय अभ्यर्थी द्वारा प्रयुक्त किये जाने वाले खाता संख्या की सूचना आरओ को देनी होगी। नाम निर्देशन पत्र एवं शपथ पत्र पूर्ण रुप से भरा होना चाहिये।

मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के अभ्यर्थी की सूचना प्रारुप क और ख में ओरिजनल हस्ताक्षर सहित प्रस्तुत करनी होगी। अभ्यर्थी को चुनाव खर्च के संबंध में एनेक्सर-52 पेज नंबर 535 में सूचना देनी होगी। अभ्यर्थी को 10 हजार रुपये की राशि तथा अजा व अजजा के अभ्यर्थी को 5 हजार रुपये की राशि जमा करानी होगी।

संवीक्षा के समय अभ्यर्थी, निर्वाचन अभिकर्ता एवं प्रस्तावक व एक अधिकृत व्यक्ति ही उपस्थित हो सकते है। अभ्यर्थी की निरर्हता/अहर्रता संवीक्षा की दिनांक से तय की जायेगी।

नाम वापसी

अभ्यर्थी स्वयं प्रस्तावक अथवा निर्वाचन अभिकर्ता द्वारा प्रस्तुत किया जा सकता है किन्तु प्रस्तावक एवं निर्वाचन अभिकर्ता द्वारा प्रस्तुत करने की स्थिति में अभ्यर्थी की लिखित अभिस्वीकृति आवश्यक होगी। एक बार नाम निर्देशन पत्र वापस ले लिया जाता है तो उसे पुनः निरस्त नहीं किया जायेगा।

पूर्ण भरना होगा फार्म

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि प्रत्याशी को नामांकन दाखिल करने के समय नामांकन पत्र के सभी काॅलम अनिवार्य रूप से भरने होंगे। नामांकन पत्र भरने के दौरान रिटर्निंग अधिकारी कार्यालय के 100मीटर के दायरे में अधिकतम तीन वाहनों को ही अनुमति दी जाएगी।

ये रहेगी आवेदन की योग्यता

श्री मल्लिक ने बताया कि विधानसभा चुनाव के लिए कोई भी व्यक्ति जो भारत का नागरिक हो, 25 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुका हो तथा जन प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत अन्य योग्ताएं पूर्ण करता है। अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित विधानसभा क्षेत्र में उसी जाति या जनजाति का व्यक्ति नाम निर्देशन पत्र भर सकता है। उन्होंने बताया कि साथ ही प्रत्याशी संसद द्वारा बनाई गई किसी विधि द्वारा या उसके अधीन विहित की गई योग्यताएं रखता हो।

न हो आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान अभ्यर्थी तथा विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा यह सुनिश्चित किया जाए कि विभिन्न गतिविधियों के दौरान आचार संहिता का उल्लंघन न हो।  राजनीतिक दल, प्रत्याशियों तथ उनके समर्थकों द्वारा प्रकाशित करवाए जाने वाले पम्पलेट (पर्चे), पोस्टर, विज्ञापन अथवा हैण्डबिल प्रकाशित या मुद्रित करवाते लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 127 के विभिन्न प्रावधानों की पालना हो। साथ ही पम्पलेट तथा पोस्टर के मुख्य पृष्ठ पर मुद्रक एवं इसके प्रकाशक का नाम तथा पता अनिवार्य रूप से लिखवाना होगा।

कोई भी व्यक्ति किसी निर्वाचन पम्पलेट या पोस्टर का मुद्रण तब तक नहीं करवा सकेगा जब तक कि प्रकाशक की पहचान की घोषणा उसके द्वारा हस्ताक्षरित तथा दो व्यक्ति जो उन्हें व्यक्तिगत रूप से जानते हो द्वारा सत्यापित न करवाया जाए। सत्यापन के पश्चात मुद्रक को इसकी दो प्रतिलिपि देनी होगी। दस्तावेज के प्रकाशत के पश्चात मुद्रक इसकी एक प्रति तथा घोषणा पत्र की प्रति जिला निर्वाचन अधिकारी को प्रस्तुत करेगा।

धारा 144 लागू रहेगी

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि विधान सभा चुनाव 2018 के मद्देनजर 13 दिसम्बर 2018 तक दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 प्रभावी रहेगी। इस दौरान कोई व्यक्ति, राजनीति पार्टी, संस्था  बिना वैध अनुमति के जुलूस, सभा, रैली एवं सार्वजनिक सभा नहीं कर सकेगा तथा ध्वनि विस्तारक यंत्रों का उपयोग नहीं कर सकेगा। प्रत्येक सभा, जुलूस एवं सार्वजनिक सभा की अनुमति आदर्श आचार संहिता एवं निर्वाचन आयोग भारत सरकार के निर्देशों की पालना के तहत होगी।

एमसीएमसी से प्रमाणित कराने होंगे विज्ञापन

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि अभ्यर्थी चुनाव के दौरान अपने प्रचार-प्रसार के लिए इलेक्ट्राॅनिक मीडिया के माध्यम से जो भी विज्ञापन प्रसारित करवाना चाहते हैं, उन्हें विज्ञापन जिला या राज्य स्तरीय एमसीएमसी से पूर्व में अनिवार्यतः अधिप्रमाणित करवाने होंगे। साथ ही 6 तथा 7 दिसम्बर को प्रिंट मीडिया में प्रकाशित होने वाले विज्ञापनों के लिए भी अधिप्रमाणन अनिवार्य होगा। साथ ही ई पेपर में प्रकाशित विज्ञापनों को भी सक्षम स्तर पर अधिप्रमाणित करवाना होगा। नियमों की अनुपालना नहीं होने पर सम्बंधित के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

खर्च व्यय पर रहेगी नजर

श्री मल्लिक ने बताया कि विधानसभा चुनाव के अभ्यर्थी चुनाव प्रचार पर अधिकतम 28 लाख रूपए व्यय कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि प्रत्याशियों को चुनाव खर्च के लिए नामांकन करने से कम से कम एक दिन पूर्व पृथक से बैंक खाता खोल कर उसका ब्यौरा निर्वाचन विभाग को उपलब्ध करवाना होगा। अभ्यर्थियों को समस्त खर्चे इसी बैंक खाते के माध्यम से किए जाने हांेगे, 20 हजार से अधिक नकद राशि खाते से नहीं निकाली जा सकेगी। अगर इससे अधिक का भुगतान करना हो तो अकांउट पे चैक के माध्यम से किया जाएगा तथा समस्त लेने देने की जानकारी निर्वाचन विभाग में देनी होगी। व्यय सीमा का उल्लंघन नहीं हो इसके लिए कड़ी निगरानी की व्यवस्था की गई है।

सी विजिल की तैयारी

उन्होंने बताया कि सभी सेक्टर अधिकारी को सी विजिल में पंजीकृत कर दिया गया है। साथ ही अतिरिक्त उड़न दस्ते भी नियुक्त किये गये है। आरओ स्तर पर टीम गठित कर प्रभावी निरीक्षण की कार्यवाही की जायेगी।

निजी सम्पति पर बिना लिखित अनुमति के प्रचार सामग्री न लगाएं

जिला निर्वाचन अघिकारी ने बताया कि विधानसभा चुनाव के तहत अभ्यर्थी या राजनीतिक दल किसी निजी सम्पत्ति पर अपने बैनर या झंडे लगवा कर चुनाव प्रचार-प्रसार करना चाहते हैं तो इसके लिए सम्बंधित मालिक से लिखित स्वीकृति लेना अनिवार्य होगा। उन्होंने बताया कि मालिक की लिखित स्वीकृति के बाद लगाए जाने वाले बैनर या झंडे के खर्चे सहित पूर्ण विवरण एवं लिखित सहमति की प्रति अभ्यर्थी द्वारा सम्बंधित रिटर्निंग अधिकारी को 3 दिन में प्रस्तुत करनी होगी।

रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक सोशल मीडिया पर नहीं किया जा सकेगा प्रचार

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि धारा 144 दण्ड प्रक्रिया संहिता के तहत आदर्श आचार संहिता के तहत 13 दिसम्बर 2018 तक चुनाव प्रचार के उद्देश्य से टेलीफोन व मोबाईल के माध्यम से रात 10 बजे से प्रातः 6 बजे तक प्रचार नहीं किया जा सकेगा। यदि किसी व्यक्ति, अभ्यर्थी, राजनीतिक दल द्वारा ऐसा कृत्य किया गया तो सम्बन्धित के विरूद्ध धारा 144 के तहत कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

कर्मचारी राजनैतिक गतिविधियों से रहें दूर

केन्द्र और राज्य सरकार के कर्मचारियों को चुनाव के दौरान निष्पक्ष रहना होगा तथा वे किसी प्रकार की राजनैतिक गतिविधि में भाग नहीं ले सकेंगे अन्यथा संबंधित कर्मचारी के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि चुनाव की घोषणा के बाद आयोजित होने वाली आम सभाएं आम तौर पर राजनीतिक दलों अथवा अभ्यर्थियों द्वारा आयोजित की जाती हैं। इनमें सरकारी कर्मचारी भाग नहीं ले सकेंगे। कानून व्यवस्था संधारण के लिए नियुक्त कर्मचारियों को इनमें भाग लेने की छूट रहेगी। किसी कार्मिक को निर्वाचन के संचालन या प्रबंधन से संबंधित किसी कर्तव्य पर नियुक्त किया जाता है तो वह अपने मताधिकार का उपयोग करने से भिन्न कोई ऐसा कार्य नहीं करेगा जो चुनाव आयोग द्वारा निषेध है।

भारत निर्वाचन आयोग का फुल कमीशन 16 को उदयपुर प्रवास पर

उदयपुर, 11 नवंबर/भारत निर्वाचन आयोग के उच्चाधिकारीगण विधानसभा आमचुनाव 2018 की समीक्षा बैठक के लिए 16 नवंबर को उदयपुर प्रवास पर रहेंगे। इनमें मुख्य निर्वाचन अधिकारी ओ.पी.रावत सहित चुनाव आयुक्त सुनील अरोरा, अशोक लवासा, वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा, उप चुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना व सुदीप जैन, महानिदेशक (चुनाव व्यय) दिलीप शर्मा, महानिदेशक (मीडिया) धीरेन्द्र ओझा,अतिरिक्त महानिदेशक शैफाली बी.शरण एवं आयोग सचिव राहुल शर्मा शुक्रवार की सुबह 9.10 बजे वायुयान से उदयपुर पहुंचेंगे तथा इसी दिन सायं 5.35 बजे वायुयान से जयपुर प्रस्थान कर जाएंगे। ये अधिकारी उदयपुर,जोधपुर तथा कोटा संभाग के निर्वाचन से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक लेकर चुनाव प्रक्रिया को सफल एवं प्रभावी बनाने को लेकर चर्चा करेंगे।  

लाइजन आॅफिसर नियुक्त

जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) बिष्णुचरण मल्लिक ने एक आदेश जारी कर जिले के विभिन्न अधिकारियों को भारत निर्वाचन आयोग के उच्चाधिकारियों के आगमन से प्रस्थान तक साथ रहकर समन्वय कार्य के लिए समन्वय अधिकारी नियुक्त किया है। आदेशानुसार जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कमर चैधरी, नगर निगम आयुक्त सिद्धार्थ सिहाग, पश्चिम क्षेत्र सांस्कृति केन्द्र के अतिरिक्त निदेशक सुधांशु सिंह, अतिरिक्त आबकारी आयुक्त प्रदीप सिंह सांगावत, जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक विपुल जानी, प्रवर्तन अधिकारी (रसद) प्रद्युमन सिंह, एमएलएसयू के वित्तीय सलाहकार गिरीश कच्छारा, जनसम्पर्क उपनिदेशक गौरीकान्त शर्मा, उप महानिरीक्षक (पंजीयन) श्रीमती कविता पाठक एवं नेहरू युवा केन्द्र के युवा समन्वयक पवन कुमार अमरावत को लाइजन आॅफिसर नियुक्त किया गया है।

राष्ट्रीय एकता दिवस पर 31 को होंगे वृहद स्तरीय आयोजन

एडीएम सिटी ने ली समीक्षा बैठक

उदयपुर, 29 अक्टूबर/आगामी 31 अक्टूबर को सरदार पटेल के जन्म शताब्दी वर्ष को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इस अवसर पर जिला एवं ब्लाॅक स्तर पर वृहद स्तरीय आयोजन होंगे। आयोजनों की तैयारियों एवं रूपरेखा को लेकर अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) संजय कुमार ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभागार में विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक ली। इस अवसर पर यूआईटी विशेषाधिकारी ओ.पी.बुनकर सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारीगण मौजूद थे।

 एडीएम सिटी ने संबंधित विभागों के सौंपे गये दायित्वों के आधार पर की गई तैयारियों की समीक्षा की और आयोजन को वृहद स्तर पर मनाने एवं अधिक से अधिक जनभागीदारी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्प्होंने राष्ट्रीय एकता दौड़ शपथ एवं मार्च पास्ट सहित अन्य आयोजनों को लेकर संबंधित विभागों से चर्चा करते हुए आयोजन को भव्य रूप से मनाने के निर्देश दिए। साथ ही आयोजन के दौरान पानीरिफ्रेशमेंटएम्बुलेंसटी-शर्ट-केप आदि की व्यवस्थाओं के पुख्ता इंतजाम के साथ आवश्यक सुविधाएं के पुख्ता इंतजाम के लिए संबंधित विभागों को निर्देर्शित किया।

ये होंगे आयोजन

राष्ट्रीय एकता दिवस के उपलक्ष्य में 31 अक्टूबर की सुबह 6.30 से 7.30 बजे तक रन फाॅर यूनिटी का आयोजन होगा।इस अवसर पर जिले एवं ब्लाॅक के समस्त विभागोंकार्यालयोंविद्यालय-महाविद्यालयोंसंस्थाओं आदि स्थानों पर सुबह 11 से 11.30 बजे राष्ट्रीय एकता की शपथ ली जाएगी। राष्ट्रीय एकता दिवस पर संध्या काल में सायं 5 से 6 बजे के बीच में फतहसागर की पाल पर सैनिकों की ओर से मार्च पास्ट का आयोजन होगा। इसके साथ ही फतहसागर झील में बैण्ड की मधुर धुन स्वर लहरिया बिखरेंगी।

सेल्फी प्वाइंट रहेगा आकर्षण का केन्द्र

आयोजनों के दौरान फतहसागर झील स्थित मुम्बईयां बाजार के समीप सेल्फी प्वाइंट विशेष आकर्षण का केन्द्र रहेगा। इस सेल्फी प्लाइंट पर रन फाॅर यूनिटी में भाग लेने वाले प्रतिभागियों सहित आमजन सेल्फी ले सकंेगे।

एमजी में स्वरचित काव्य - पाठ प्रतियोगिता

उदयपुर, 29 अक्टूबर/राजकीय मीरा कन्या महाविद्यालयउदयपुर में साहित्यिक समिति के तत्त्वावधान में सोमवार को स्वरचित काव्य-पाठ प्रतियोगिता का आयोेजन किया गया।

प्राचार्य डाॅ. ऋतु मथारू ने जीवन में काव्य का महत्व बताया। युवा कौशल विकास प्रकोष्ठ की प्रभारी डाॅ. शशी सांचीहर ने छात्राओं की प्रस्तुति को उत्कृष्ट बताया। समिति प्रभारी डाॅ. शिवे शर्मा ने काव्य-तत्व की व्यापकता को उजागर किया। निर्णायक पद के रूप में डाॅ.चन्द्रशेखर शर्मा ने सृजनशीलता मौलिकता की विस्तार से जानकारी दी। डाॅ. इन्द्रा जैन एवं डाॅ. श्रुति टण्डन ने भी निर्णायक पद की भूमिका निभाई। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. चन्दनबाला मारू ने तथा धन्यवाद ज्ञापन डाॅ. नवनीत प्रिया शर्मा ने किया।

प्रतियोगिता के परिणाम

महाविद्यालय प्राचार्य ने बताया कि प्रतियोगिता में प्रथम जीनल जैन व मेघा आमेटाद्वितीय   सुरभि शर्मा तथा तृतीय शिल्पी पाण्डे रही।

विधानसभा आम चुनाव को लेकर उडनदस्ते व विभिन्न दलों का गठन

जिला निर्वाचन विभाग उदयपुर की ओर से विधानसभा आम चुनाव 2018 के दौरान विभिन्न कार्यो की सतत् निगरानी, नियंत्रण व लेखा-जोखा रखने के लिए उडनदस्ते व विभिन्न दलों का विधानसभा वार गठन किया गया है।

जिला निर्वाचन अधिकारी बिष्णुचरण मल्लिक ने बताया कि जिले की आठो विधानसभाओं में उडनदस्ते नियुक्त किये गये है। इनमें प्रत्येक विधानसभा में तीन दलों का गठन किया गया है, जो 24 घंटे सक्रिय रहेंगे। इनमें विकास अधिकारी, तहसीलदार, अधिशाषी अभियंता, उपतहसीलदार एवं उपनिदेशक स्तर के अधिकारी शामिल है। इन उडनदस्तों में चार दलों को आरक्षित रखा गया है।

उन्होंने बताया कि आठों विधानसभाओं में लेखा संबंधी कार्यो की जाॅच एवं सतत् माॅनिटरिंग के लिए लेखादल का गठन किया गया है जिसमें उप कोषाधिकारी व लेखाधिकारी नियुक्त किये है। इसी प्रकार प्रत्येक विधानसभा वीडियो अवलोकन दल गठित किये गये है जिनमें संबंधित आॅफिस कानूनगों, भू-अभिलेख निरीक्षक व एओके की नियुक्ति की गई है तथा प्रत्येक विधानसभा में दो-दो वीडियो निगरानी दल का गठन किया गया है जिनमें संबंधित भू-अभिलेख निरीक्षकों की यह दायित्व सौंपा गया है।

 वहीं समस्त विधानसभाओं में स्थिर जाॅच दल के तहत उदयपुर शहर विधानसभा में 4 दल तथा अन्स सभी विधानसभा क्षेत्र में तीन-तीन दलों का गठन किया गया है जिसमें विकास अधिकारी, अधिशाषी अभियन्ता,वाणिज्यिकर अधिकारी, सहायक अभियन्ता एवं उपनिदेशक स्तर के अधिकारी नियुक्त किये गये है। इनमें 3 दलों को आरक्षित रखा गया है।

चुनाव संबंधी कार्यो में होने वाले व्यय पर निगरानी के लिए जनजाति परियोजना अधिकारी के.पी.सिंह चैहान को पर्यवेक्षण अधिकारी व एसएलएमटी तथा मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के वित्तीय सलाहकार गिरिश कच्छारा को प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया गया है। वहीं गोगुन्दा, झाड़ोल, खेरवाड़ा, उदयपुर ग्रामीण, मावली, वल्लभनगर व सलूम्बर में एक-एक सहायक व्यय पर्यवेक्षक तथा उदयपुर शहर विधानसभा में दो सहायक व्यय पर्यवेक्षक लगाये गये है। इनमें उप कोषाधिकारी व लेखाधिकारी शामिल है।

मौसमी बीमारियों को लेकर रहें सचेत-कलक्टर

जिले में मौसमी बीमारियों की रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण को लेकर जिला कलक्टर बिष्णुचरण मल्लिक ने आमजन से सचेत रहकर बचाव की अपील की है। उन्होंने कहा कि वर्तमान मंे मौसमी बीमारियों का दौर चल रहा हैं। वर्षाकाल समाप्त होते ही मौसमी बीमारियां जैसे मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनियां एवं स्वाईन फ्लू के फैलने का खतरा बढ़ जाता हैं। मौसमीं बीमारियों से बचाव सम्भव हैं। चूंकि अधिकतर बीमारियां मच्छर जनित होती हैं। जहां भी पानी भरा रहता हैं वहां मच्छर अण्डे दे देता हैं तथा सात दिन में अण्डो के लार्वा परिपक्व होकर मच्छर बन जाते हैं। अतः आमजन अपने घरों में पानी से भरे हुए कूलर, टंकियां, पुराने टायर,गमले जहां पर पानी एकत्रित होता रहता है उसे प्रत्येक सात दिवस में खाली करते रहना चाहिये। जालीदार दरवाजे प्रयोग में लिये जाय। खुले में अथवा छत पर खूले में सोने वाले व्यक्ति पूरी आस्तीन के कपड़े पहने एवं मच्छर जाली का प्रयोग अवश्य करें। स्वयं के शरीर की, घरों के आसपास की तथा ग्रामीण क्षेत्रों में पशुओ के बाड़े की साफ-सफाई रखें। बुखार होने पर तुरन्त नजदीकी चिकित्सालय में चिकित्सक को दिखायें।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. दिनेश खराड़ी ने बताया कि सभी राजकीय चिकित्सालयों में बुखार के रोगी की रक्त जांच एवं उपचार हेतु दवाईयां निःशुल्क उपलब्ध हैं। स्वाइन फ्लू के बचाव के लिये सर्दी,खांसी जुकाम व बुखार होने की स्थिति में नजदीकी चिकित्सा संस्थान में चिकित्सक को दिखाये। प्रयेक गर्भवती माता का ब्लड प्रेशर, डायबिटिज की जांच करवायी जाये। पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चे एवं साठ वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गो का इन बीमारियों के मध्येनजर विशेष ध्यान रखा जाये।

मुख्य सचिव ने की वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग

प्रदेश भर में मौसमी बीमारियों की प्रकोप, रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण को लेकर राजस्थान के मुख्य सचिव डी.बी.गुप्ता ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग लेकर चर्चा की एवं इस संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। जिला कलक्टर बिष्णुचरण मल्लिक ने जिले में मौसमी बीमारियों की रोकथाम को लेकर प्रशासन एवं चिकित्सा विभाग की ओर किये जा रहे प्रयासों के बारे में अवगत कराया।

स्वीप गतिविधियों को प्रभावी बनाने को लेकर हुई बैठक

मतदाता जागरूकता महोत्सव के अन्तर्गत स्वीप गतिविधियों आयोजित करने को लेकर जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं स्वीप प्रकोष्ठ नोडल प्रभारी कमर चैधरी की अध्यक्षता में विभिन्न विभागों के जिला अधिकारियों की बैठक गुरुवार को सम्पन्न हुई।

बैठक में सभी जिला अधिकारियों को ग्रामीण क्षेत्रों में होने वाला 72 प्रतिशत मतदान को बढाकर 90 प्रतिशत करने तथा शहरी क्षेत्रों में 60 प्रतिशत को 80 से 90 प्रतिशत तक बढाने के लिए प्रभावी प्रयास करने के लिए निर्देशित किया गया। बैठक में लीड बैंक मैनेजर को निर्देश दिये कि जिले के समस्त बैंकों (ग्रामीण एवं शहरी) में एवं एटीम पर बैनर एवं मेस्काॅट के पोस्टर लगवाकर एवं मतदान जागरूकता की पूर्ण जानकारी देने के लिए एक नोडल आॅफिसर नियुक्त करें।

चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को रोगी पर्ची पर मतदान अवश्य करवाने एवं उनके प्राथमिक स्वाथ्य केन्द्र उपस्वास्थ्य केन्द्र पर मतदाता जागरूकता बैनर एवं पोस्टर लगाने तथा एएनएम एवं आशा सहयोगिनियों को डोर टू डोर सम्पर्क कर आमजन को जागरूक करने के निर्देश दिए।

कृषि एवं सब्जी मंडी अधिकारी को ईवीएम व वीवीपैट पोस्टर एवं दीवारों पर मेस्काॅट की पेंटिंग प्रदर्शित करने, रसद विभाग को जिले के सभी पैट्रोल पम्पों पर मतदाता जागरूकता के पोस्टर बैनर व मेेस्काॅट लगाने,डेयरी विभाग के अधिकारी अपने सभी संग्रहण केन्द्रों पर पोस्टर बैनर व उत्पादकों पर मतदाता जागरूकता का मेेस्काॅट लगाने, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग को पानी के टैंकर, टंकियो आदि पर बडे बैनर एवं मेस्काॅट आदि बनवाने एवं परिवहन विभाग को बसों पर पोस्टर, मेस्काॅट आदि चस्पा करने एवं डिपो पर बैनर आदि लगाने के निर्देश दिये।

बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी के निर्देशानुसार 15 नवम्बर से 30 नवम्बर के बीच मनाये जाने वाले सरगम सप्ताह की जानकारी देते हुए सभी विभागाध्यक्षों के सहयोग की अपेक्षा की गई।

सभी उपखण्ड अधिकारियों को मतदाता जागरूकता मेराथन दौड़, कैन्डल मार्च कराने हेतु निर्देशित किया गया। जिला शिक्षा अधिकारी, एन.सी.सी, स्काॅउट अधिकारियों को निर्देश दिये गये कि वे अपने स्तर पर वार्ड वाॅइज प्रभात फेरिया, पोस्टर प्रतियोगिता, रंगोली प्रतियोगिता सम्पन्न कराना सुनिश्चित करें। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग को निर्देशित किया गया कि दिव्यांगों का मतदानकरण हेतु समुचित व्यवस्था करावें।

सभी जिला अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि वे अपने अपने विभागों द्वारा की गई मतदाता जागरूकता के कार्यक्रमों की गतिविधियों की फोटो एवं समाचार की प्रगति रिपोर्ट प्रतिदिन कार्यालय की मेल आईडी स्वीप डाॅट सीपीओउदयपुर एटदीरेट जीमेल डाॅट काॅम पर भिजवाना सुनिश्चित करें साथ ही यह निर्देशित किया गया कि भारत सरकार द्वारा भिजवाई गई स्वीप आॅडीट पार्टी के समय पायी गई किसी भी कमी पर सम्बन्धित विभागाध्यक्ष अपने स्तर पर जिम्मेदार रहेगा।

बैठक में स्वीप सहप्रभारी एवं मुख्य आयोजन अधिकारी पुनीत शर्मा ने स्वीप कार्यक्रम के तहत की जा रही गतिविधियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

मतदाता जागरूकता शपथ

मतदाता जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत स्वीप गतिविधियों के तहत गुरुवार को मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के केन्द्रीय छात्रसंघ पदाधिकारियों ने मतदान करने की शपथ ली। इस कार्यक्रम में जिला निर्वाचन कार्यालय के स्वीप प्रकोष्ठ के लतीफुद्वीन पठान हेमन्त जीनगर एवं मोहब्बत सिंह चावड़ा ने पदाधिकारियों से छात्र वर्ग को चुनाव आयोग द्वारा शुरू किए गए नवाचारों में सी.विजील, अपनी क्लास डाट इन की जानकारी दी।

मुख्य आयोजन अधिकारी पुनीत शर्मा ने मतदाता जागरूकता कार्यक्रम की जानकारी देते हुए छात्र संघ के पदाधिकारियों को लोकतंत्र में सक्रिय भूमिका निभाने के लिए अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए। अन्त में केन्द्रीय छात्रसंघ अध्यक्ष हिमंाशु बागड़ी ने उदयपुर शहर के मतदाताओं को अधिकाधिक मतदान कर लोकतंत्र को सफल बनाने का आह्वान किया।

इस कार्यक्रम में उपाध्यक्ष अरविन्द सिंह चुण्डावत, महासचिव पदमसिंह देवड़ा, संयुक्त सचिव सुनिल पहाड़िया, पदाधिकारी मोहित मेनारिया, रोहित साफिया, ललित चन्देल, हर्ष सुथार अश्विन मेनारिया उपस्थित रहे।

विधानसभा आमचुनाव 2018 के लिए नियंत्रण कक्ष स्थापित

विधानसभा आमचुनाव 2018 के तहत जिला स्तर पर आवश्यक सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए जिला कलक्टर कार्यालय के कमरा नंबर 114 में चुनाव नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। नियंत्रण कक्ष के टेलीफोन नंबर 0294-2414620 है।

जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) बिष्णुचरण मल्ल्कि द्वारा जारी आदेशानुसार नियंत्रण कक्ष में राउण्ड द क्लाॅक चैबीस घंटे कर्मचारी कार्यरत रहेंगे जो 8-8 घंटे की शिफ्ट में कार्य करेंगे। इस नियंत्रण कक्ष के प्रभारी अधिकारी राजकीय संस्कृत महाविद्यालय के व्याख्याता डाॅ. महामाया प्रसाद चैबीसा व सहायक प्रभारी जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय के कार्यालय अधीक्षक पन्नालाल रेगर होंगे। प्रभारी अधिकारी डाॅ. चैबीसा के मोबाइल नंबर 9829430220है।

विधानसभा आमचुनाव 2018: जिला निर्वाचन अधिकारी ने ली प्रकोष्ठ प्रभारियों की बैठक

आदर्श आचार संहिता की पूर्ण पालना सुनिश्चित हो-कलक्टर

आगामी विधानसभा चुनाव 2018 का कार्यक्रम निर्धारित होने के साथ ही आदर्श आचार संहिता को लेकर जिला निर्वाचन विभाग की ओर से तैयारियां जोरों पर है। जिला निर्वाचन अधिकारी बिष्णुचरण मल्लिक ने गुरुवार को निर्वाचन से जुड़े विभिन्न प्रकोष्ठ प्रभारियों के साथ बैठक लेकर संबंधित कार्यों की चर्चा की। कलक्टर ने कहा कि चुनाव संबंधी कार्यों के दौरान आदर्श आचार संहिता की पूर्ण पालना सुनिश्चित हो।

बैठक में अतिरिक्त उप जिला निर्वाचन अधिकारी चांदमल वर्मा, एडीएम सिटी संजय कुमार, नगर निगम आयुक्त सिद्धार्थ सिहाग, स्वीप प्रभारी व जिला परिषद के सीइओ कमर चैधरी, गिर्वा एसडीएम लोकबन्धु,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बृजेश सोनी सहित चुनाव से जुड़े समस्त प्रकोष्ठ के प्रभारी अधिकारी मौजूद रहे।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कार्मिक, स्वीप, कानून व्यवस्था, चुनाव सामग्री व जलपान व्यवस्था, वाहन व्यवस्था, सामान्य व्यवस्था व मतगणना, ईवीएम, आचार संहिता व निर्वाचन व्यय मॉनिटरिंग, पर्यवेक्षक, रूट चार्ट, प्रशिक्षण, मतदान दलों की व्यवस्था, सांख्यिकी, आईटी, मतपत्र, चुनाव लेखा, डाक मतपत्र, कानून प्रक्रिया, भुगतान, चुनाव नियंत्रण एवं मीडिया प्रकोष्ठ व पेड न्यूज आदि प्रकोष्ठों के प्रभारियों से विस्तार से चर्चा कर आवश्यक निर्देश दिए।

 श्री मल्लिक ने कहा कि संबंधित प्रकोष्ठ प्रभारियों से चर्चा करते हुए कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों की शत-प्रतिशत पालना करते हुए चुनाव प्रक्रिया को सम्पन्न करवाने में सभी को अपने दायित्वों का भलीभांति निर्वहन करना होगा। उन्होंने संबंधित प्रकोष्ठों की प्रगति रिपोर्ट से समय-समय पर अवगत कराने के निर्देश दिये।

बैठक पश्चात कलक्टर ने मीडिया प्रतिनिधियों से बात करते हुए कहा कि आदर्श आचार संहिता के बाद जिला स्तर से लेकर ब्लाॅक स्तर, नगर निकाय संस्थाओं व सार्वजनिक स्थानों से विभिन्न प्रचार प्रसार संबंधी होर्डिंग्स, पोस्टर, फ्लेक्स, बेनर आदि हटवाकर संबंधित अधिकारियों से इस संबंध में रिपोर्ट प्राप्त कर ली गयी है।

उन्होंने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा नियमित प्राप्त होने वाली जानकारी के अनुसार जिले भर से अवैध हथियार जब्त किये जा रहे है और साथ ही वैध हथियारों को जमा करने की कार्यवाही भी की जा रही है। जिले भर में कानून व्यवस्था बनाये रखते हुए इन कार्यो को अंजाम दिया जा रहा है।

स्वीप नवाचारों का सराहा

जिला निर्वाचन अधिकारी ने स्वीप गतिविधियों के तहत आयोजित किये जा रहे मतदाता जागरुकता कार्यक्रमों की सराहना करते हुए शत-प्रतिशत मतदान करवाने पर जोर दिया। उन्होंने आमजन को मतदान के प्रति प्रेरित व जागरुक करने को लेकर किये जा रहे स्वीप नवाचारों की सराहना की और इसे ओर अधिक प्रभावी बनाने पर जोर दिया। उन्होंने दिव्यांगजनों के लिए मतदान केन्द्र पर हरसंभव सुविधा उपलबध कराते हुए राहत पूर्ण मतदान सम्पादित करवाने पर जोर दिया।

मतदाता जागरूकता कार्यक्रम के तहत नवाचार

स्वीप नवाचार के अन्तर्गत जिला स्तर पर मतदाता जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन कर मिलेनियम वोटर, मतदाता मित्र का स्वीप गतिविधियों पर आमुखिकरण किया गया एवं सम्मानित किया गया। साथ ही साथ स्वीप गतिविधियों हेतु शुभंकर कर इसकी टेगलाइन ’’म्हारो केणों वोट देणों़़’’ रखा गया एवं भावी मतदाता हेतु गौरवी संघवी नवसृजित मतदाताओं हेतु माला सुखवाल व दिव्यांग मतदाताओं को जागरूक करने हेतु प्रवीण बानु को जिला स्तर पर आईकन घोषित किया गया।

ईवीएम वीवीपेट के माध्यम से जिले के प्रत्येक बुथ व क्षेत्र विशेष में आयोजित मेलों धार्मिक आयोजनों में ईवीएस, वीवीपेट का प्रदर्शन किया जा रहा है। जिले के विधानसभा क्षेत्रो में 11 एसएमवी वेन्स का संचालन किया जा रहा है, वेन्स द्वारा कुल 2243 बुथ में से 1343 बुथ व अन्य स्थानों पर जाकर लगभग 1.25 लाख व्यक्तियों को जागरूक किया गया साथ ही इन्हे मशीन की क्रियाविधि व स्वयं वोट डालकर प्रामाणिकता भी सुनिश्चित करवाई गई। विधानसभा क्षेत्रो में 12 स्टेटिक ईवीएम सेन्टर्स भी बनाए गए है। जिसके द्वारा 17225 व्यक्तियों को जागरूक किया जा चुका है।

 आॅनलाइन शपथ एवं अपनी क्लास स्टार्ट ऐप के माध्यम से मतदाता साक्षरता कार्यक्रम, जिले हेतु आॅनलाईन शपथ के लिए एक वेब पेज बनाया गया जिसके माध्यम से  करीब 3 हजार मतदाता द्वारा आनलाईन शपथ ली गई है। स्वीप गतिविधियों के तहत् सम्पूर्ण जिले में मतदाता साक्षरता व जागरूकता के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे है। साथ ही विभिन्न विभागों के माध्यम से कई नवाचार भी किये जा रहे है।

मतदाता जागरूकता शपथ

जिला निर्वाचन विभाग उदयपुर के स्वीप प्रकोष्ठ की ओर से सोमवार को गुलाबबाग में आयोजित 21वा सत्यार्थ प्रकाश महोत्सव के अन्तिम दिन आध्यात्मिक स़त्र के अन्त में उपस्थित जनसमुह को मतदान करने की शपथ दिलवायी गई ।

          मतदाता जागरूकता कार्यक्रम के प्रभारी अधिकारी पुनीत शर्मा ने बताया कि महोत्सव में उपस्थित भारत के विभिन्न कोनों से आये अथितियों ने नवलखा महल में आयोजित कार्यक्रम के साथ देशहित में लोकतंत्र में अपनी भूमिका के लिए प्रति पूर्ण आस्था प्रदर्शित की। स्वीप प्रकोष्ठ के समन्वयक लतीफुददीन पठान एवं हेमन्त जीनगर ने लोकतन्त्र में इस बार चुनाव आयोग द्वारा अपनाए गये नवाचार सी विजील एवं अपनी क्लासव डाट इन से आनलाइन शपथ की जानकारी देते हुए शपथ दिलवाई।

विधानसभा आमचुनाव 2018

प्रचार प्रसार सामग्री के मुद्रण पर नियंत्रण को लेकर हुई बैठक

विधानसभा आमचुनाव 2018 में प्रचार-प्रसार सामग्री यथा पेम्फलेट्स, पोस्टर्स आदि के मुद्रण पर नियंत्रण के संबंध में आवश्यक बैठक सोमवार को जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) बिष्णुचरण मल्लिक की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित हुई। बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर संजय कुमार (शहर) एवं चांदमल वर्मा (प्रशासन) सहित पुलिस अधिकारी एवं प्रिन्टिंग प्रेस के प्रबंधक व प्रतिनिधि मौजूद रहे।

कलक्टर ने कहा कि चुनाव में राजनैतिक दलों, अभ्यर्थियों, उनके समर्थकों, कार्यकर्ताओं, व्यक्तियों, संगठनों, संस्थाओं द्वारा पेम्फलेट, पोस्टर, विज्ञापन, हैण्डबिल आदि प्रकाशित कराने हेतु मुद्रित कराया जाएंगे। ऐसे मुद्रण पर लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 127 क के प्रावधान लागू होंगे। इसके तहत प्रकाशक की घोषणा उसके द्वारा हस्ताक्षरित एवं दो व्यक्तियों द्वारा सत्यापित होनी चाहिए। किसी अन्य व्यक्ति द्वारा प्रकाशन करवाए जाने पर उम्मीदवार की लिखित सहमति आवश्यक है।

कलक्टर ने कहा कि मुद्रक इस बात का विशेष ध्यान रखे कि किसी भी धर्म, जाति विशेष व चरित्र हनन संबंधी विवरण का प्रकाशन न हो एवं आचार संहिता की पूर्ण पालना सुनिश्चित हो। उन्होंने कहा कि इसके लिए निर्धारित प्रारूप ‘क‘ में प्रकाशक से निर्देशानुसार सूचना प्राप्त की जाकर, प्रारूप ख संलग्न कर तीन दिन में मुद्रित सामग्री 4 प्रतियों में जिला मजिस्ट्रेट को प्रस्तुत करनी होगी। प्रकाशित एवं मुद्रित विषय वस्तु के मुख्य पृष्ठ पर उसके मुद्रक व प्रकाशत का नाम व पता, संख्या आदि की जानकारी भी अनिवार्यतः देनी होगी। इसके लिए संबंधित अधिकारी पूर्ण निगरानी रखेंगे।

उन्होंने बताया कि आदेश-निर्देश की अवहेलना करने पर कारावास एवं आर्थिक जुर्माने का प्रावधान है।

अपंजीकृत मुद्रक से नहीं कराए प्रकाशन

बैठक में मुद्रक प्रबंधक एवं प्रतिनिधियों ने बताया कि जो मुद्रक अपंजीकृत है उनके लिए चेतावनी जारी करते हुए इनकी सूचना राजनैतिक दल व अभ्यर्थियों को दी जाए ताकि वे अपंजीकृत मुद्रक से किसी भी प्रकार का प्रकाशन नहीं कराए। इस पर प्रशासन की ओर से आवश्यक कार्यवाही करने की बात कही।

लाभार्थी अपने मिलने वालों को बताएं सरकारी योजनाओं के लाभ - कटारिया

गिर्वा पंचायत समिति परिसर में गृहमंत्री ने किए कई उद्घाटन-शिलान्यास

 गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा है कि वर्तमान राज्य और केंद्र सरकारों की विभिन्न योजनाओं का लाभ प्राप्त करने वालों को चाहिए कि वे परिचितों को भी योजनाओं की जानकारी दें ताकि वे भी यदि पात्र हों तो उसका लाभ उठा सकें। रविवार को गिर्वा पंचायत समिति सभागार में आयोजित स्वच्छता निरन्तरता, माहवारी स्वच्छता प्रबंधन और पोषण अभियान पर ब्लॉक स्तरीय आमुखीकरण और लाभार्थी संवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होने यह बात कही। 

कटारिया ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री और प्रदेश की मुख्यमंत्री आमजन की तकलीफों पर गहन मनन कर ऐसी योजनाएं लाते हैं जिससे उनका जीवन स्तर ऊंचा उठे। केंद्र की मेडीकल बीमा योजना, प्रदेश की भामाशाह बीमा योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, जन-धन, उज्जवला आदि कई योजनाओं को गिनाते हुए उन्होने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में नीचले तबके के व्यक्ति का जीवन स्तर सुधरा है। कार्यक्रम में उपस्थित विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से आह्वान किया कि वे अपने अनुभव अन्य लोगों से भी साझा करें। कार्यक्रम के दौरान लाभार्थियों को लाभ वितरित भी किए गए । 

कार्यक्रम को सांसद अर्जुन मीणा, विधायक फूलसिंह, प्रधान ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर यूआईटी अध्यक्ष रवींद्र श्रीमाली, पूर्व मंत्री चुन्नीलाल गरासिया, जिला परिषद एसीईओ मुकेश कलाल, उपखंड अधिकारी लोकबंधु सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित रहे। 

किए उद्घाटन और शिलान्यास

गृहमंत्री ने इस अवसर पर 1 करोड़ 8 लाख के विकास कार्यों के उद्घाटन किए तथा 1 करोड़ 15 लाख के कार्यों के शिलान्यास किए। जिन कार्यों का उद्घाटन किया गया उनमें 55 लाख की लागत से बना व्यावसायिक कॉम्पलेक्स, पंचायत समिति परिसर में आरसीसी पोर्च तथा नवीन बाउंड्री वॉल व इंटरलॉकिंग टाइल्स के कार्य सहित अन्य कार्य शामिल हैं। शिलान्यास के कार्यों में 50 लाख की दुकानें, 25 लाख का धनलक्ष्मी महिला केंद्र, बीसीएमएचओ कार्यालय शामिल हैं।   

गुड गवर्नेन्स कार्य के लिए 18.50 लाख

जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग की ओर से उदयपुर के वन भवन परिसर में काॅन्फ्रेंस हाॅल मरम्मत, शेड निर्माण, बाथरूम, शौचालय निर्माण आदि कार्य के लिए 18.50 लाख रुपये की संशोधित प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति जारी की गई है। यह जानकारी विभाग के आयुक्त भवानी सिंह देथा ने दी।

अकादमी पुरस्कार घोषित

मीरा पुरस्कार जयपुर के सवाईसिंह शेखावत कोे

राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर के 2018-19 के वार्षिक पुरस्कारों की घोषणा अकादमी अध्यक्ष डाॅ. इन्दुशेखर तत्पुरुष द्वारा कर दी गई है। अकादमी अध्यक्ष ने घोषित पुरस्कारों की जानकारी देते हुए बताया कि अकादमी का इस वर्ष का सर्वोच्च मीरा पुरस्कार राशि 75000 रुपये. श्री सवाईसिंह शेखावत, जयपुर को उनकी काव्य कृति निज कवि धातु बचाई मैंने पर घोषित किया गया है।

अकादमी का कविता विधा का  सुधीन्द्र पुरस्कार,  श्री रामनारायण मीणा, कोटा को उनकी कृति अभी उम्मीद बाकी है,  कथा-उपन्यास विधा का डाॅ. रांगेय राघव पुरस्कार,  श्री हरीदास व्यास, जोधपुर को उनकी कृति एक था पेड,़ नाटक विधा का देवीलाल सामर पुरस्कार, श्री उमेश कुमार चैरसिया, अजमेर को उनकी कृति शौर्य प्रधान नाटक, आलोचना विधा का देवराज उपाध्याय पुरस्कार, श्री मूलचन्द बोहरा, बीकानेर को उनकी कृति दो फलांग आगे, विविध विधाओं का कन्हैयालाल सहल पुरस्कार,  श्री कमलानाथ, प्रवास मुम्बई को उनकी कृति साहित्य का ध्वनितत्व उर्फ साहित्यिक बिग बैंग तथा बाल साहित्य का शम्भूदयाल सक्सेना पुरस्कार, श्रीमती आशा शर्मा, बीकानेर को उनकी कृति अंकल प्याज पर घोषित किया गया है। ये सभी पुरस्कार 31-31 हजार रु. के हैं।

सुमनेश जोशी (प्रथम प्रकाशित कृति) पुरस्कार श्रीमती रश्मि पारीक, जयपुर को उनकी कृति परित्यक्त पृष्ठ पर घोषित किया गया है। यह पुरस्कार 21 हजार रु. का है।

अकादमी अध्यक्ष ने बताया कि अकादमी के नवोदित प्रतिभा प्रोत्साहन पुरस्कार के अन्तर्गत चन्द्रदेव शर्मा (कविता विधा) महाविद्यालय स्तरीय पुरस्कार, राजकीय मीरा कन्या महाविद्यालय, उदयपुर की छात्रा सुश्री शिल्पी कुमारी को तथा परदेशी पुरस्कार (कविता विधा) विद्यालय स्तरीय पुरस्कार, हिन्द जिंक विद्यालय, चित्तौड़गढ़ की छात्रा सुश्री तन्मयी वैष्णव को घोषित किया गया है। उक्त दोनों पुरस्कार5-5 हजार रु. के हैं।  

अकादमी सचिव डाॅ. विनीत गोधल ने बताया कि उक्त समस्त पुरस्कार 4 अक्टूबर को उदयपुर में आयोजित अकादमी के वार्षिक सम्मान समारोह  के अवसर पर प्रदान किए जाएंगे।

उच्च शिक्षा मंत्री के 13 को विविध कार्यक्रम

उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी 13 सितंबर को उदयपुर में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेंगी तथा रात्रि विश्राम उदयपुर में करने के बाद 14 की सुबह 9 बजे राजसमंद जाएंगी। वे वहां आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेकर इसी दिन सायं 7 बजे उदयपुर पहुंचेंगी तथा रात्रि विश्राम उदयपुर में ही करेंगी। श्रीमती माहेश्वरी 15 को चित्रकूट नगर में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेकर दोपहर 1.30 बजे खटामला के लिए प्रस्थान कर जाएंगी।

News