News

जिला प्रशासन की अपील कांटेक्ट ट्रेसिंग से करें प्रशासन की मदद

News

जिलेवासियों को कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन द्वारा हर व्यक्ति को अपने संपर्कों की सूची बनाते हुए कांटेक्ट ट्रेसिंग में प्रशासन की मदद का आह्वान किया है।
जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी ने बताया कि प्रत्येक व्यक्ति एक छोटी नोटबुक या डायरी हमेशा अपने साथ रखे और हर दिन जिन-जिन व्यक्तियों के संपर्क में आए, दिनांकवार एक पन्ने पर उसका नाम लिखते जाए। इस प्रकार यदि हम कोरोना से संक्रमित होते हैं तो प्रशासन को हमारे संपर्क में आए सभी लोगों का पता लगाने में मदद मिलेगी। इसे कांटेक्ट ट्रेसिंग कहते हैं।
उन्होंने कहा है कि इसके साथ ही अपने घर एवं संस्थान के सीसीटीवी हमेशा ऑन रखें। इस संदेश को अपने आस पास अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचावें। उन्होंने स्पष्ट किया कि आमजन की हर छोटी से छोटी मदद प्रशासन के काम आएगी। इससे कई जिंदगियां बचाई जा सकती हैं और कोरोना जंग में उनका यह योगदान अहम् साबित होगा।

घर बैठे दवाईयां व परामर्श के लिए मदद करेगा ‘आयु एप’ डॉक्टर्स, मरीज व मेडिकल तीनों हुए ऑनलाइन

News

लॉकडाउन की अवधि में आमजन के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन के निर्देशों पर आईटी विभाग की ओर से आयु एप बनाया गया है जिससे जरूरतमंद व्यक्ति घर बैठे अपनी आवश्यकतानुसार दवाईयां मंगा सकेंगे और चिकित्सक परामर्श ले सकेंगे।
आईटी उपनिदेशक शीतल अग्रवाल ने बताया कि यदि किसी को स्वास्थ्य संबंधी कोई परेशानी है तो संबंधित व्यक्ति घर बैठे ही इस मोबाइल एप के माध्यम से विशेषज्ञ डॉक्टर्सं से परामर्श पा सकते हैं। इसके अलावा दवाइयां भी घर पर ही मुहैया हो जाएंगी।
ऐसे काम करता है आयु एप
मोबाइल में आयु एप डॉउनलोड करने के लिए गूगल प्लेस्टोर पर जाएं, यहां आयु एप टाइप कर ब्लु कलर में प्लस के निशान वाले बटन पर क्लिक करें। इसके बाद इस एप में रजिस्टर करें। आयु एप से ई-परामर्श लेने के लिए ई-कंसल्ट बटन पर क्लिक करके अपनी बीमारी के लक्षण सलेक्ट करें। इसमें खांसी, जुकाम, बुखार आदि सवाल पूछे जाएंगे। जिनका जवाब देकर परामर्श लिया जा सकता है। इस एप पर व्यक्ति अपना मेडिकल रिकॉर्ड भी अपलोड कर सकते हैं। यह पूरी तरह सेफ और सुरक्षित है।
ई-परामर्श सब्मिट करने के बाद डॉक्टर असाइन होगा और सबसे पहले आयु से फोन आएगा यह सूचना देने के लिए कि कौन डॉक्टर आपका केस देख रहे है। उसके बाद डॉक्टर कॉल करके परेशानी पूछेंगे और आपके बताए लक्षणों के आधार पर ही दवाइयां लिखेंगे। डॉक्टर द्वारा लिखी दवाइयों का पर्चा भी फोन पर ही उपलब्ध हो जाएगा। जिसे आप अपने सेहत साथी (नजदीकी मेडिकल स्टोर) पर भेजकर दवाइयां मंगवा सकते हैं।
जिला प्रशासन की मेडिकल स्टोर्स से अपील:
जिला प्रशासन ने उदयपुर जिले के सभी मेडिकल स्टोर से भी अपील की है कि वह अपने फोन में सेहत साथी एप डाउनलोड करें, और इस संकटकाल में देशवासियों की मदद करें।
ऐसे डाउनलोड होगा सेहत साथी एप:
इसके लिए गूगल प्ले स्टोर पर सेहत साथी टाइप करना होगा। यहां सेहत साथी मेडकॉर्ड्स फॉर फॉर्मेसी लिखा हुआ दिखाई देगा, इस पर क्लिक करना है। डाउनलोड पश्चात आवश्यक सूचना दर्ज करने केे बाद डायरेक्ट लोगों से बात कर चेट के माध्यम से दवाइयों के ऑर्डर ले सकते हैं। इसके अतिरिक्त उदयपुर के समस्त डॉक्टरों से भी डॉक्टर्स डॉट मेडकॉर्ड्स डॉट कॉम पर रजिस्ट्रेशन करके जिले के समस्त लोगों को घर से ही परामर्श देंने की अपील की है ।

अब लोग अब घर बैठे मंगवा सकेंगे राशन आईटी विभाग ने तैयार किया ‘ई-बाजार कोविड-19’ मोबाइल एप

News


लोकडाउन की इस स्थिति में अब लोगों को घरों से निकल कर बाजार में राशन खरीदने के लिए नहीं जाना पड़ेगा। शहर में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग ने नागरिकों के लिए घर बैठे राशन सामग्री की होम डिलीवरी हेतु ‘ई-बाजार कोविड-19’ मोबाइल एप विकसित की है।
सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग, उदयपुर की उपनिदेशक शीतल अग्रवाल ने बताया कि इस एप को  ‘कोविड डॉट ईबाजार डॉट राजस्थान डॉट जीओवी डॉट इन’ वेबसाईट से डाउनलोड किया जा सकता है तथा उपयोग करने के लिए दुकानदार तथा उपभोक्ता दोनों को स्वयं की एसएसओ आईडी से एप पर रजिस्टर करना होगा। इस एप के माध्यम से ग्राहक अपने घर के आसपास स्थित किराणा स्टोर्स की जानकारी प्राप्त कर सकेंगे तथा अपनी आवश्यकतानुसार राशन सामग्री घर बैठे ऑर्डर कर सकेंगे। होम डिलीवरी की सुविधा प्रदान करने वाले किराणा स्टोर, ऑर्डर की गई सामग्री की डिलीवरी ग्राहक के घर तक करेंगे।

शहर में विभिन्न स्थानों पर लगाई निषेधाज्ञा

उदयपुर, 27 जुलाई/उदयपुर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के मिलने के बाद अतिरिक्त जिला कलक्टर एवं अतिरिक्त जिला मजिस्टेªट संजय कुमार ने संबंधित क्षेत्र में निवासरत नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक प्रशान्ति बनाये रखने की दृष्टि से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई है।
जारी आदेशानुसार संबंधित क्षेत्र में इस बीमारी से आस-पास के लोगों को इसके संक्रमण से बचाव की दृष्टि से प्रतापनगर थानान्तर्गत उत्तरी सुंदरवास के 48 किशोर कुंज विद्या कॉलोनी एवं 340 बी ब्लॉक प्रतापनगर, सविना थानान्तर्गत सेक्टर 8 के 104 कान नगर, सूरजपोल थानान्तर्गत किशनपोल में गवर्मेट प्रेस के पीछे वाली गली एवं सर्वऋतु विलास कॉलोनी, अंबामाता थानान्तर्गत साइफन चौराहा के 233 मंगल श्री गार्डन के सामने पंचरत्न कॉम्पलेक्स, सुखेर थानान्तर्गत न्यू मंगलम कॉम्पलेक्स तथा हिरणमगरी थानान्तर्गत उदयपुर पब्लिक स्कूल के पास सेन्ट्रल एरिया रेती स्टेण्ड के प्रभावित क्षेत्र में यह निषेधाज्ञा लगाई है।
एडीएम सिटी ने बताया कि यह निषेधाज्ञा 26 जुलाई से लागू होकर 9 अगस्त की मध्यरात्रि तक लागू रही। इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाये जा सकेंगे।

वल्लभनगर के भीण्डर कस्बे के प्रभावित क्षेत्रों में निषेधाज्ञा


 उदयपुर, 27 जुलाई/उदयपुर के वल्लभनगर उपखण्ड क्षेत्र के भीण्डर कस्बे में 3 व्यक्ति नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित मिलने के बाद वल्लभनगर उपखण्ड मजिस्टेªट शैलेश सुराणा ने संबंधित क्षेत्र में निवासरत नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक प्रशान्ति बनाये रखने की दृष्टि से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई है।
एसडीएम ने जारी आदेश में बताया है कि इस क्षेत्र में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित पाये जाने के कारण इस बीमारी से आस-पास के लोगों को इसके संक्रमण से बचाव की दृष्टि से वल्लभनगर के भीण्डर थाना अंतर्गत दर्जियों के मंदिर से नटवरलाल सोनी के मकान तक 200 मीटर क्षेत्र तथा भंवरलाल जी नागदा के मकान से ठाकल देवजी के देवरे तक 200 मीटर क्षेत्र में यह निषेधाज्ञा लगाई है।
एसडीएम सुराणा ने बताया कि ये आदेश 26 जुलाई की मध्यरात्रि से लागू होकर 8 अगस्त की मध्यरात्रि तक प्रभावी रहेंगे तथा इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाये जा सकेंगे। इन निषेधाज्ञा वाले क्षेत्र में कानून व शांति व्यवस्था बनाए रखने हेतु भीण्डर तहसीलदार रामसिंह राव को कार्यपालक मजिस्ट्रेट लगाया है।

गिर्वा एसडीएम ने जगत में लगाई निषेधाज्ञा


उदयपुर, 27 जुलाई/उदयपुर के गिर्वा उपखण्ड के ग्राम जगत में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति मिलने के बाद गिर्वा उपखण्ड मजिस्टेªट डॉ. सौम्या झा ने संबंधित क्षेत्र में निवासरत नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक प्रशान्ति बनाये रखने की दृष्टि से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई है।
जारी आदेश में बताया है कि संबंधित क्षेत्र में इस बीमारी से आस-पास के लोगों को इसके संक्रमण से बचाव की दृष्टि से पुलिस थाना कुराबड़ अंतर्गत जगत गांव मे जैन मोहल्ला, महेश मेडिकल के पास प्रभावित क्षेत्र में यह निषेधाज्ञा लगाई है।
यह निषेधाज्ञा 26 जुलाई की मध्यरात्रि से लागू होकर 8 अगस्त की मध्यरात्रि तक प्रभावी रहेगी। इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाये जा सकेंगे।

जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति (दिशा) की बैठक आज


उदयपुर, 27 जुलाई/जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक 28 जुलाई को सुबह 11 बजे सांसद अर्जुनलाल मीणा की अध्यक्षता में गुगल मिट एप के माध्यम से ऑनलाइन आयोजित होगी। इस ऑनलाइन बैठक (वीसी) के दौरान सभी विधायकगण सहित एवीवीएनएल के अधीक्षण अभियंता, स्मार्ट सिटी सीईओ, सीएमएचओ, कृषि उपनिदेशक, अग्रणी बैक अधिकारी एवं अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी जिला परिषद सभागार में भाग लेंगे। जिला कलक्टर एवं समिति के सदस्य सचिव चेतन देवड़ा ने बताया कि बैठक में सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं एवं कार्यक्रमों की प्रगति के संबंध में चर्चा की जाएगी।

राजस्थानी कथा-पुरस्कार हेतु कृतियां आमंत्रित

उदयपुर, 27 जुलाई/सत्र 2020 के श्री चुन्नीलाल सोमानी राजस्थानी कथा-पुरस्कार के लिए राजस्थानी कहानी संग्रह आमंत्रित किए गए हैं। यह पुरस्कार वर्ष 2015 से 2019 के मध्य प्रकाशित श्रेष्ठ राजस्थानी कहानी संग्रह पर प्रदान किया जाएगा। इनलैंड सोमानी फांउन्डेशन कोलकाता द्वारा प्रवृतित इस पुरस्कार के तहत इकतीस हजार रुपये की राशि, शॉल-श्रीफल तथा सम्मान-पत्र समर्पित किया जाएगा। यह पुरस्कार प्रतिवर्ष श्रीडूंगरगढ़ में एक भव्य समारोह आयोजित कर तीन निर्णायकों द्वारा संस्तुत एक श्रेष्ठ राजस्थानी कहानी संग्रह पर दिया जाएगा।
पुरस्कार समिति के संयोजक डॉ चेतन स्वामी ने बताया कि पुरस्कार के लिए कथाकार को अपनी कृति की चार प्रतियां संयोजक श्री चुन्नीलाल सोमानी राजस्थानी कथा पुरस्कार समिति, आडसर बास श्रीडूंगरगढ (बीकानेर) के पत्ते पर भेजनी होगी। पुरस्कार में कृति भेजने की अंतिम तिथि 31 अगस्त रखी गई है। पुरस्कार समिति के अन्तर्गत लक्ष्मीनारायण सोमानी, रतन सोमानी, ताराचंद इन्दौरिया, श्याम सोमानी, डॉ चेतन स्वामी, श्रीमती चंदू सोमानी तथा बजरंग शर्मा को लिया गया। समिति ने तय किया कि पुरस्कार समारोह संभवतया नवम्बर में आयोजित किया जाएगा।

31 अगस्त तक चलेगी कोविड- 19 जागरूकता प्रदर्शनी


उदयपुर, 27 जुलाई/मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की अनूठी पहल पर जारी कोरोना जागरूकता अभियान के तहत उदयपुर जिला मुख्यालय पर लगाई गई कोरोना जागरूकता प्रदर्शनी हर वर्ग को जागरूक कर रही है। सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के निर्देशानुसार यह प्रदर्शनी अब 31 अगस्त तक आमजन के अवलोकनार्थ खुली रहेगी।
जनसम्पर्क उपनिदेशक डॉ. कमलेश शर्मा ने बताया कि 1 जुलाई से आयोजित इस प्रदर्शनी का अवलोकन करने हर वर्ग के लोग आ रहे है। दर्शकों ने यहां पर कोरोना से बचाव के लिए राज्य सरकार की ओर से जारी गाइडलाईन के साथ ही लगाए गए अनिवार्य सावधानियों और उनके उल्लंघन पर कानूनी प्रावधानों के बारे जानकारी दी जा रही है। साथ ही आगंतुकं कोरोना जागरूकता हस्ताक्षर अभियान के तहत हस्ताक्षर करते हुए अपनी भागीदारी निभा रहे है।

नाहर ने आकाशवाणी केन्द्र के निदेशक का पदभार संभाला

उदयपुर, 27 जुलाई/भारतीय प्रसारण सेवा के 1994 बेच के वरिष्ठ अधिकारी राजेन्द्र नाहर ने सोमवार को आकाशवाणी उदयपुर एवं डूंगरपुर केन्द्र के निदेशक का कार्यभार ग्रहण कर लिया है। इस अवसर पर नाहर ने बताया कि जल्द ही आकाशवाणी उदयपुर के स्टूडियों को पूर्ण रूप से स्वचालित किया जायेगा। साथ ही केन्द्र पर अभिनव एवं रचनात्मक कार्य प्रारंभ किये जायेंगे, जिससे आकाशवाणी उदयपुर को राष्ट्रीय स्तर पर एक आदश्र लोक प्रसारण केन्द्र के रूप में स्थापित किया जा सके। उन्होंने केन्द्र के अधिकारियों को सभी लम्बित कार्य शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश भी दिये। नाहर ने आकाशवाणी केन्द्रों के लोक प्रसारण सेवा में तत्काल जिम्मेदारी एवं उत्पादकता बढ़ाने पर जोर दिया।

शहर के हीराबाग कॉलोनी में भी निषेधाज्ञा

उदयपुर, 27 जुलाई/अतिरिक्त जिला कलक्टर एवं अतिरिक्त जिला मजिस्टेªट संजय कुमार ने शहर के भूपालपुरा थानान्तर्गत यूनिवर्सिटी रोड स्थित हीराबाग कॉलोनी में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति मिलने के बाद संबंधित क्षेत्र में निवासरत नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक प्रशान्ति बनाये रखने की दृष्टि से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई है।
एडीएम सिटी ने बताया कि यह निषेधाज्ञा 27 जुलाई से लागू होकर 10 अगस्त की मध्यरात्रि तक लागू रहेगी। इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाये जा सकेंगे।

कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए कलक्टर ने जारी किया आदेश
जिले के सम्पूर्ण सीमा क्षेत्र में रात्रि 9 बजे से सुबह 5 बजे तक रहेगा पूर्ण प्रतिबंध


उदयपुर, 27 जुलाई/जिले में कोरोना के लगातार बढ़ते प्रकोप को देखते हुए जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट चेतन देवड़ा ने एक आदेश जारी कर धारा 144 के तहत जिले के सम्पूर्ण सीमा क्षेत्र में रात्रि 9 बजे से सुबह 5 बजे तक पूर्ण प्रतिबंध लगाया है।
कलक्टर ने बताया कि रात्रि 9 बजे से सुबह 5 बजे तक सभी गैर आवश्यक गतिविधियों के लिए व्यक्तियों के आवागमन पर सख्त निषेध रहेगा। केवल राजमार्ग पर परिवहन अनुमत रहेगा। सभी कार्य स्थल (दुकानें/कार्यालय/कारखाने आदि) निर्धारित समय पर बंद कर दिये जायेंगे ताकि इनका स्टाफ एवं अन्य व्यक्ति रात्रि 9 बजे तक अपने पर पहुंच जाये।
वहीं पुलिस, जिला प्रशासन, सरकारी अधिकारी चिकित्सा एवं अन्य चिकित्सा/पैरा मेडिकल स्टाफ (राजकीय/निजी), अन्य आपातकालीन स्थिति के लिये, आईटी और आईटीईएस कम्पनियों का स्टाफ, दवा की दुकानों के मालिक और स्टाफ, निरंतर उत्पादन के प्रकृति की फैक्ट्रिया, रात की पारी वाली फैक्ट्रियां व अन्य आपात व आवश्यक सेवाओं के स्टाफ आदि पर यह प्रतिबंध लागू नहीं होगा।
यह प्रतिबंध 27 जुलाई की मध्यरात्रि से लागू होकर अग्रिम आदेश तक प्रभावी रहेगा। इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों के विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम व भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाये जा सकेंगे।

वेटलेंड कमेटी के सदस्य का उदयपुर दौरा विभिन्न अधिकारियों एवं झील प्रेमियों से की चर्चा

News

उदयपुर, 27 जुलाई/भारत सरकार के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की राष्ट्रीय वेटलैंड कमेटी में सदस्य तथा  महाराष्ट्र सरकार के सलाहकार डॉ. अफरोज अहमद ने उदयपुर के झीलों के सम्बन्ध में विभिन्न अधिकारियों एवं झीलों से जुड़े विशेषज्ञों से चर्चा की।
डॉ अफरोज ने कहा कि उदयपुर की झीलें वेटलैंड की परिभाषा में तो नहीं आती है किन्तु इन्हे हेरिटेज झीलों के रूप में संरक्षण करने का प्रस्ताव बनाना चाहिए तथा सेंट्रल वॉटर कमीशन के पास प्रस्ताव भेजना चाहिए ,जिसके लिए मै भी प्रयास कर सकता हूं। इससे ना सिर्फ झीलें बल्कि उसके मध्य तथा किनारे पर स्थित सदियों पुरानी विरासतों के संरक्षण को बल मिलेगा।
डॉ अहमद में मेनार वेटलैंड के संरक्षण के लिए प्रस्ताव बना कर देने को कहा ,जो वास्तविक रूप से बहुत ही अच्छा वेटलैंड है। निगम के अधिकारियों के साथ ही वन विभाग के अधिकारी श्री सुपोंग शशि,उप वन संरक्षक उत्तर, एवं श्री अजीत ओचोय, उप वन संरक्षक वन्य जीव ने चर्चा की।
झील प्रेमियों से हुई चर्चा
बैठक दौरान वेटलैंड टास्क फोर्स के पूर्व सदस्य प्रो. महेश शर्मा ने उन्हें बताया कि उदयपुर की उदयसागर एवं फतहसागर झीलें राजस्थान झील विकास प्राधिकरण के तहत पहले से ही संरक्षित है, पिछोला का भी प्रस्ताव भेजा हुआ है, तथा मानव निर्मित पीने के पानी, सिंचाई या आमोद प्रमोद के लिए बनी झीलें वेटलैंड रूल्स 2017 में संरक्षित करने के लिए सम्मिलित नहीं है, शर्मा ने डॉ अफरोज से स्थिति स्पष्ट करने का आग्रह किया।
डॉ अहमद ने तत्काल सभी की वेटलैंड रूल्स की 52 पेज की गाइडलाइन फॉरवर्ड कर बताया कि इसमें चौथे बिंदु में स्पष्ट उल्लेख है कि मानव निर्मित झीलें जो पीने के लिए, सिंचाई, नमक उत्पादन, मछली पालन या आमोद प्रमोद के लिए बनी हो, वो झील वेटलैंड संरक्षण में नहीं आती है। उनके लिए झील संरक्षण प्राधिकरण है जिसमें उनका संरक्षण हो रहा है। स्थानीय झील प्राधिकरण समिति के प्रभारी ने भी निगम की ओर से किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी।

कोरोना को हराने उदयपुर कलक्टर का मंत्र
एक दूसरे को टोकें, कोरोना को रोकें

उदयपुर, 28 जुलाई/जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिलेवासियों से मार्मिक अपील करते हुए एक नया मंत्र दिया है। कलक्टर देवड़ा ने कोरोना से बढ़ती चेन को रोकने के लिए “एक दूसरे को टोकंे-कोरोना को रोकंे’ का नया स्लोगन देते हुए कोरोना से बचाव की दृष्टि से एक-दूसरे को टोकते हुए इससे बचाव को प्रेरित करने का आह्वान किया है।

कलक्टर ने उदयपुरवासियों को स्वयं जागरूक व सुरक्षित रहकर अन्य लोगों को प्रेरित करने की बात कही है और बताया है कि लॉकडाउन के दौरान रात्रिकालीन समय में परिवर्तन करते हुए बाजारों को रात्रि 8 बजे बंद करने व रात्रि 9 से सुबह 5 बजे तक गैर व्यवसायिक गतिविधियों व आवागमन पर सख्ती से रोकने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की बढ़ती संख्या चिंतनीय है और इस पर सब लोगों को गंभीरता जताते हुए आमजन को बाजार में निकलने व शहर के पर्यटन स्थलों से भी दूरी बनाये रखनी होगी।
लॉकडाउन को मन से स्वीकारें:
कलक्टर ने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए प्रशासन पूर्ण मुस्तैदी से कार्य कर रहा है। ऐसे में आमजन को अपनी जागरूकता एवं भागीदारी निभानी होगी। उन्होंने कहा कि सरकार एवं प्रशासन अपने स्तर पर हरसंभव प्रयास कर रहा है, लॉकडाउन भी किया है पर ये प्रयास तभी लागू होंगे जब लोग स्वयं इसे मन से स्वीकार करें, इनकी अनुपालना करें, खुद लागू करें और दूसरों को भी प्रेरित करें। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि कोरोना अभी गया नहीं है। ऐसे में सतर्कता ही इससे बचाव का बेहतर उपाय है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की नौबत इसीलिए आ रही है कि लोग कोरोना के डर को निकाल चुके है, जो ठीक नहीं है। कोरोना अपनी रफ्तार से फैल रहा है और इससे रोकना जरूरी है।
घूमने जाना मतलब कोरोना को आमंत्रण देना:  
कलक्टर ने कहा कि इससे बचाव करना और इसे रोकना तभी संभव है जब लोग यह संकल्प कर लें कि वे अनावश्यक घर से बाहर नहीं निकलेंगे। यह फतहसागर, रानी रोड, बड़ी का तालाब, सुखाडिया सर्कल सब यहीं है, किन्तु अभी यहां घूमना उचित नहीं। जब हम पूर्ण रूप से संक्रमण से मुक्त हो जाएंगे तब यहां आराम से बे-रोक टोक घूम सकते हैं ,लेकिन वर्तमान स्थिति को देखते हुए सार्वजनिक एवं पर्यटन स्थलों पर एकत्रित होना संक्रमण या कोरोना को आमंत्रण देना ही है।

बाल श्रम को रोकने के लिए प्रशासन प्रतिबद्ध-कलक्टर
यूनिसेफ के साथ मिलकर होगी महिला वार्ड पंचों व सरपंचों की ट्रेनिंग

उदयपुर, 28 जुलाई/जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने कहा है कि जिले में बाल श्रम को रोकने के लिए प्रशाासन प्रतिबद्ध है और ग्राम स्तर पर जनजागरूकता के माध्यम से इस पर अंकुल लगाने के प्रयास किए जाएंगे।
कलक्टर देवड़ा ने यह विचार मंगलवार को बाल श्रम व बाल अधिकार संरक्षण यूनिसेफ प्रतिनिधियों की बैठक के दौरान व्यक्त किए।
यूनिसेफ की बाल संरक्षण सलाहकार सिंधु बिनुजीत ने इस दौरान जिला कलक्टर को जिले में बाल श्रम को रोकने तथा बाल अधिकार संरक्षण के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया और कहा कि पुलिस और प्रशासन के माध्यम से आईजी बिनीता ठाकुर के निर्देशन में बाल अधिकार संरक्षण के लिए चल रहे ‘कॉम्बेट’ कार्यक्रम में यूनिसेफ द्वारा तकनीकी सहयोग प्रदान किया जा रहा है। बिनुजीत ने बाल श्रम, बाल तस्करी आदि के साथ प्रशिक्षण कार्यक्रम के बारे में बताया तथा ग्राम स्तरीय व ब्लॉक स्तरीय बाल संरक्षण समितियों को सुदृढ़ करने की आवश्यकता जताई।
इसी दौरान कलक्टर ने यूनिसेफ द्वारा तैयार की गई ‘पुलिस अंकल’ बुकलेट को देखा और जिले में बाल श्रम व इससे जुड़े विषयों पर किए जाने वाले प्रयासों के बारे में पूछा। इस मौके पर यूनिसेफ वरिष्ठ जिला स्तरीय सलाहकार आकाश उपाध्याय व अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।  
महिला वार्डपंच व सरपंचों की ऑनलाईन ट्रेनिंग:  
बैठक दौरान कलक्टर ने जिले में बाल श्रम रोकने और ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समितियों को सुदृढ़ करने के उपायों के बारे में पूछे जाने पर बाल संरक्षण सलाहकार बिनुजीत ने जिले की समस्त महिला वार्ड पंच व सरपंचों की ऑनलाईन ट्रेनिंग की आवश्यकता जताई। इस पर कलक्टर देवड़ा ने तत्काल ही जिला परिषद सीईओ डॉ. मंजू के माध्यम से इस ऑनलाईन ट्रेनिंग की कार्ययोजना तैयार करने की बात कही और कहा कि बहुत ही जल्द यह प्रशिक्षण पूर्ण कर लिया जाए।  

बाल श्रम को रोकने के लिए प्रशासन प्रतिबद्ध-कलक्टर
यूनिसेफ के साथ मिलकर होगी महिला वार्ड पंचों व सरपंचों की ट्रेनिंग

उदयपुर, 28 जुलाई/जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने कहा है कि जिले में बाल श्रम को रोकने के लिए प्रशाासन प्रतिबद्ध है और ग्राम स्तर पर जनजागरूकता के माध्यम से इस पर अंकुल लगाने के प्रयास किए जाएंगे।
कलक्टर देवड़ा ने यह विचार मंगलवार को बाल श्रम व बाल अधिकार संरक्षण यूनिसेफ प्रतिनिधियों की बैठक के दौरान व्यक्त किए।
यूनिसेफ की बाल संरक्षण सलाहकार सिंधु बिनुजीत ने इस दौरान जिला कलक्टर को जिले में बाल श्रम को रोकने तथा बाल अधिकार संरक्षण के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया और कहा कि पुलिस और प्रशासन के माध्यम से आईजी बिनीता ठाकुर के निर्देशन में बाल अधिकार संरक्षण के लिए चल रहे ‘कॉम्बेट’ कार्यक्रम में यूनिसेफ द्वारा तकनीकी सहयोग प्रदान किया जा रहा है। बिनुजीत ने बाल श्रम, बाल तस्करी आदि के साथ प्रशिक्षण कार्यक्रम के बारे में बताया तथा ग्राम स्तरीय व ब्लॉक स्तरीय बाल संरक्षण समितियों को सुदृढ़ करने की आवश्यकता जताई।
इसी दौरान कलक्टर ने यूनिसेफ द्वारा तैयार की गई ‘पुलिस अंकल’ बुकलेट को देखा और जिले में बाल श्रम व इससे जुड़े विषयों पर किए जाने वाले प्रयासों के बारे में पूछा। इस मौके पर यूनिसेफ वरिष्ठ जिला स्तरीय सलाहकार आकाश उपाध्याय व अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।  
महिला वार्डपंच व सरपंचों की ऑनलाईन ट्रेनिंग:  
बैठक दौरान कलक्टर ने जिले में बाल श्रम रोकने और ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समितियों को सुदृढ़ करने के उपायों के बारे में पूछे जाने पर बाल संरक्षण सलाहकार बिनुजीत ने जिले की समस्त महिला वार्ड पंच व सरपंचों की ऑनलाईन ट्रेनिंग की आवश्यकता जताई। इस पर कलक्टर देवड़ा ने तत्काल ही जिला परिषद सीईओ डॉ. मंजू के माध्यम से इस ऑनलाईन ट्रेनिंग की कार्ययोजना तैयार करने की बात कही और कहा कि बहुत ही जल्द यह प्रशिक्षण पूर्ण कर लिया जाए।  

शहर में दो स्थानों पर लगाई निषेधाज्ञा

उदयपुर, 28 जुलाई/उदयपुर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के मिलने के बाद अतिरिक्त जिला कलक्टर एवं अतिरिक्त जिला मजिस्टेªट संजय कुमार ने संबंधित क्षेत्र में निवासरत नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक प्रशान्ति बनाये रखने की दृष्टि से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई है।
जारी आदेशानुसार संबंधित क्षेत्र में हिरणमगरी थानान्तर्गत सेक्टर 3 स्थित शास्त्री नगर एवं सेक्टर 4 में सावित्रि वाटिका के सामने प्रभावित क्षेत्र में यह निषेधाज्ञा लगाई है।
एडीएम सिटी ने बताया कि यह निषेधाज्ञा 27 जुलाई से लागू होकर 10 अगस्त की मध्यरात्रि तक लागू रही। इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाये जा सकेंगे।

कोविड- 19 जागरूकता प्रदर्शनी जारी
समाजसेवियों सहित शहरवासियों ने किया अवलोकन

 

उदयपुर, 28 जुलाई/मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की अनूठी पहल पर जारी कोरोना जागरूकता अभियान के तहत उदयपुर जिला मुख्यालय पर जारी कोरोना जागरूकता प्रदर्शनी आमजन को प्रेरित कर रही है।
मंगलवार को डूंगरपुर के पूर्व पंचायत समिति सदस्य सुखदेव यादव, समाजसेवी संदीप जैन, शंकरलाल रायकवाल, राजेन्द्र मेघवाल सहित शहरवासियों ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया। सभी ने कोरोना से बचाव के लिए राज्य सरकार के प्रयासों की सराहना की और यहां दिये गये संदेश को दिनचर्या में शांमिल करने एवं आमजन को प्रेरित करने का संकल्प लिया। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की पूर्ण पालना की गई।
जनसम्पर्क उपनिदेशक डॉ. कमलेश शर्मा ने दर्शकों को कोरोना से बचाव के लिए राज्य सरकार की ओर से जारी गाइडलाईन के साथ ही लगाए गए अनिवार्य सावधानियों और उनके उल्लंघन पर कानूनी प्रावधानों के बारे जानकारी दी। इस दौरान आगंतुकों ने कोरोना जागरूकता हस्ताक्षर अभियान के तहत भी हस्ताक्षर करते हुए अपनी प्रतिबद्धता की अभिव्यक्ति दी। जनसम्पर्क उपनिदेशक डॉ. शर्मा ने बताया कि यह प्रदर्शनी 31 अगस्त तक जारी रहेगी।

एनवाईके के राज्य निदेशक ने किया उदयपुर कार्यालय का निरीक्षण

 

उदयपुर, 28 जुलाई/युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार के नेहरू युवा केंद्र संगठन जयपुर के राज्य निदेशक डॉ. भुवनेश जैन ने नेहरू युवा केंद्र कार्यालय उदयपुर का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने राजभाषा हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को हिन्दी में कार्य करने के लिए प्रेरित किया। डॉ. जैन ने निरीक्षण के दौरान हरित ग्राम एवं स्वच्छ ग्राम अभियान के अंतर्गत यूथ हॉस्टल केम्पस मे वृक्षारोपण भी किया।
जिला युवा समन्वयक महेंद्र सिंह सिसोदिया ने बताया इस अवसर पर आयोजित बैठक में कोविड-19 की गतिविधियो की समीक्षा की गई। डॉ. जैन ने कोरोना महामारी के दृष्टिगत युवाओं को सामाजिक सरोकर एवं जनजागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के लिए प्रेरित किया। राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवकों ने बताया कि कोविड-19 में विभिन्न जागरूकता गतिविधियों का आयोजन एवं युवाओं को जागरूक करने के उद्देश्य से सबसे पहले 251 ग्राम के युवाओं का व्हाट्स अप ग्रुप बनाया गया। वहीं विभिन्न क्षेत्रों में गरीब एवं मजदूरों को मास्क बनाकर वितरण करना, रक्तदान, आईगोट रजिस्ट्रेशन, आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करवाना, भोजन पैकेट वितरण करना, ग्राम को सेनेटाइजर करने, पक्षियों के परिंडे लगाने, सोशल डिस्टेन्सिंग रखने एवं जिला प्रशासन के दिशा-निर्देशानुसार अनुसार जनजागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे है। इस अवसर पर राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवक लोकेश चौहान, सोहन लाल, पूनम माली, सौरभ सिंह, विशाल शर्मा, कैलाश मीणा, भेरुलाल मीणा, ब्रमांश शर्मा, आलाराम मीणा, परमेश्वर गायरी, गोपिलाल तावड़, रमेश चंद्र मीणा, प्रकाश पाटीदार, केशुलाल डांगी आदि मौजूद थे। अंत मे लेखाकर महेश कुमार सैनी ने आभार जताया।

कोरोना प्रसार को रोकने के लिए चिकित्सा विभाग की कवायद
व्यापारिक संस्थानों पर आने वाले ग्राहकों की सूचना संधारण के निर्देश


उदयपुर, 29 जुलाई/जिले में कोरोना प्रसार पर अंकुश लगाने की दृष्टि से चिकित्सा विभाग ने समस्त व्यापारिक संस्थानों के प्रतिनिधियों को निर्देशित किया है कि वे अपने-अपने संस्थान पर आने वाले ग्राहकों या उपभोक्ताओं के बारे में सूचना संधारित करें ताकि जरूरत के वक्त उसका उपयोग किया जा सके।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश खराड़ी ने बताया कि इस संबंध में समस्त शॉपिंग मॉल्स, रेस्टोरेंट्स, भोजनालय, बैंक एवं अन्य समस्त संबंधित संस्थानों के प्रबंधकों व व्यापारियों को निर्देश दिए गए हैं कि उनके वहां आने वाले व्यक्तियों की सूचना प्रतिदिन संधारित करें। इस सूचना में उनके नाम, मोबाईल नंबर और पता स्पष्ट अंकित किया जावें ताकि उनके संस्थान पर किसी व्यक्ति या स्टाफ के कोरोना पॉजीटिव आने पर उस व्यक्ति के क्लॉज कांटेक्ट में आने वाले सभी व्यक्तियों की कांटेक्ट ट्रेसिंग की जा सके।
इसके साथ ही उन्होंने समस्त संस्थानों के प्रबंधकों को अपने-अपने संस्थान पर प्रतिदिन सेनीटाईजेशन करवाने और अब तक की गई कार्यवाही का भी रिकार्ड संधारित करने के निर्देश दिए हैं।

विश्व आदिवासी दिवस ग्राम पंचायत पर होगा आयोजित
टीएडी आयुक्त ने जारी किए निर्देश


उदयपुर, 29 जुलाई/प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस का आयोजन किया जाएगा परंतु  राज्य सरकार द्वारा वैश्विक महामारी कोविड-19 को देखते हुए इस बार आदिवासी दिवस के आयोजन को ग्राम पंचायत स्तर पर मनाने का निर्णय लिया है।
जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के आयुक्त जितेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार इस बार विश्व आदिवासी दिवस को वृहद स्तर पर आयोजित नहीं करते हुए मात्र ग्राम पंचायत स्तर पर आयोजित करने का निर्णय लिया है। इस अवसर पर केन्द्र एवं राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं से संबंधित जानकारी/उपलब्धियों को प्रदर्शित किया जावेंगा तथा व्यक्तिगत लाभ की योजनाओं में स्वीकृत पत्र वितरण आदि का कार्य किया जावेगा।
उपाध्याय ने बताया कि विश्व आदिवासी दिवस के आयोजन के संबंध में अनुसूचित क्षेत्र के समस्त जिला कलक्टर्स, मुख्य कार्यकारी अधिकारियों को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किये है। जिसमें कोविड-19 के अंतर्गत गृह विभाग द्वारा जारी निर्देशों की पालना करते हुए आयोजन के लिए कहा गया है।

शहर में विभिन्न स्थानों पर लगाई निषेधाज्ञा

उदयपुर, 29 जुलाई/उदयपुर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के मिलने के बाद अतिरिक्त जिला कलक्टर एवं अतिरिक्त जिला मजिस्टेªट संजय कुमार ने संबंधित क्षेत्र में निवासरत नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक प्रशान्ति बनाये रखने की दृष्टि से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगाई है।
जारी आदेशानुसार संबंधित क्षेत्र में इस बीमारी से आस-पास के लोगों को इसके संक्रमण से बचाव की दृष्टि से धानमण्डी थानान्तर्गत कुंजरवाडी क्षेत्र में मकान नंबर 21 चमन गली (सेहरी गली), छोटा भोईवाड़ा, शीतला माता मंदिर रामद्वारा गली, हनुमान मंदिर के पास व गरबा चौक सुराणा स्ट्रीट, भूपालपुरा थानान्तर्गत गली नंबर 1 सरदारपुरा मीरा होटल के पास, प्रतापनगर थानान्तर्गत 40 शांतिनगर पुराना आरटीओ ऑफिस, देव डूंगरी कालका माता रोड पायड़ा, 315 आकाशवाणी के सामने मादड़ी, सूरजपोल थानान्तर्गत झ 01 माछला मगरा स्कीम एकलिंग पार्क के पास, हिरणमगरी थानान्तर्गत सेक्टर 3 में अजय सिंह पंवार व भंवरलाल सुथार के मकान वाली गली डोरे नगर, घंटाघर थानान्तर्गत 119 सुभाष मार्ग जाडि़यो की ऑल व 38 बागर गली के प्रभावित क्षेत्र में यह निषेधाज्ञा लगाई है।
एडीएम सिटी ने बताया कि धानमण्डी थाना क्षेत्र के शीतला माता मंदिर रामद्वारा गली, हनुमान मंदिर के पास व गरबा चौक सुराणा स्ट्रीट यह निषेधाज्ञा 28 जुलाई से लागू होकर 11 अगस्त की मध्यरात्रि तक तथा शेष सभी प्रभावित क्षेत्रों में यह निषेधाज्ञा 29 जुलाई से लागू होकर 12 अगस्त की मध्यरात्रि तक लागू रहेगी। इस निषेधाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति या व्यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाये जा सकेंगे।

उद्योग, होटल, हॉस्पीटल स्थापित करने के लिए
7.5 प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण


उदयपुर, 29 जुलाई/राज्य सरकार द्वारा जारी युवा उद्यमिता प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत राजस्थान वित्त निगम उदयपुर द्वारा 7.5 प्रतिशत वार्षिक प्रभावी ब्याज दर पर उद्योग, होटल, हॉस्पीटल स्थापित करने हेतु 150 लाख तक एवं इससे अधिक 5 करोड़ तक का ऋण प्रदान किया जा रहा है। जिसकी पुनर्भुगतान अवधि 7 से 10 वर्ष तक है।
उप प्रबंधक प्रवीण पारख ने बताया कि यह योजना उन युवाओं के लिए है, जिनकी आयु 18 से 45 वर्ष तक हो तथा न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता मैट्रिक हो। उन्होंने बताया कि भूमि भवन, यन्त्र संयंत्र की लागत पर 70 प्रतिशत तक ऋण दिया जा सकेगा एवं शेष राशि स्वयं को लगानी होगी। योजना के अंतर्गत आवेदन शुल्क व् प्रोसेसिंग शुल्क भी नहीं लिया जायेगा। इच्छुक उद्यमी निगम कार्यालय मे किसी कार्य दिवस मे उपस्थित होकर अधिक जानकारी प्राप्त करें एवं योजना का अधिक से अधिक लाभ उठा सकते है।

अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस ने किया एनसीसी कैडेट्स से संवाद
ऑनलाईन कार्यशाला में 1300 केडेट्स ने लिया भाग

उदयपुर, 29 जुलाई/पुलिस विभाग एवं युनिसेफ राजस्थान के संयुक्त तत्वाधान में संचालित कम्युनिटी पुलिसिंग टू बिल्ड अवेयरनेस एण्ड ट्रस्ट कार्यक्रम अंतर्गत बुधवार को अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस तथा निदेशक सेन्टर फॉर चाईल्ड प्रोटेक्शन राजीव शर्मा की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय एनसीसी कैडेट्स का ऑनलाइन आमुखीकरण आयोजित किया गया। इस कार्यशाला में राज्य भर से लगभग 1300 कैडेट्स ने भाग लिया। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक शर्मा ने कहा कि कैडेट्स अपनी अनुशासन तथा कर्तव्य परायणता के कारण जाने जाते हैं। कोविड 19 महामारी के समय में कैडेट्स की भूमिका और अधिक बढ जाती है। उन्होने पुलिस विभाग द्वारा किशोर वर्ग व बाल संरक्षण के लिए किए जा रहे प्रयासों की भीं जानकारी दी।
कार्यशाला के दौरान युनिसेफ के बाल संरक्षण विशेषज्ञ संजय कुमार निराला ने बाल संरक्षण तथा समुदाय तथा परिवार में इस मुश्किल समय में बच्चों के संभावित खतरों के बारे में सेशन लिया। युनिसेफ की तकनीकी सलाहकार इवान्जली डी मनोहर ने मनो-सामाजिक विषय पर कैडेट्स को प्रशिक्षण उपलब्ध कराया। युनिसेफ की बाल संरक्षण सलाहकार सिन्धु बिनुजीत ने भी कैडेट्स को बाल संरक्षण से संबंधित महत्वपूर्ण नम्बरों के बारे में बताया।